₹400 करोड़ से कोविशील्ड के एक करोड़ टीके खरीदेगी सरकार

सरकार ने अभी साफ नहीं किया है कि राज्य में अगले चरण में लोगों को मुफ्त टीका लगाया जाएगा या उन्हें इसके लिए भुगतान करना अथवा सरकार किसी तरह की सब्सिडी देगी। राज्य मंत्रिमंडल की 26 अप्रेल को प्रस्तावित बैठक में इस बारे में निर्णय होने की संभावना है।

By: Jeevendra Jha

Published: 23 Apr 2021, 02:01 AM IST

बेंगलूरु. राज्य में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अगले चरण के टीकाकरण के लिए सरकार ने ४०० करोड़ रुपए की लागत से कोविशील्ड के एक करोड़ टीके खरीदने का निर्णय लिया है।
मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा ने मंत्रिमंडलीय सहयोगियों के साथ राज्य में कोरोना की स्थिति की समीक्षा के बाद केंद्र सरकार की ओर से 1 मई से प्रस्तावित तीसरे चरण के टीकाकरण के लिए टीके खरीदने के प्रस्ताव को मंजूरी दी। अधिकारियों के मुताबिक पहले चरण में खरीदे जाने वाले इन टीकों का उपयोग 18 से 44 वर्ष के लोगों के टीकाकरण में किया जाएगा।

कोविड टीकाकरण
IMAGE CREDIT: patrika

सीरम इंस्टीट्यूट के विकसित इस टीके के लिए कंपनी के कीमत तय करने के बाद सरकार ने यह निर्णय लिया। सीरम ने राज्य सरकार को 400 रुपए और खुले बाजार में 600 रुपए में टीके की एक खुराक उपलब्ध कराने की घोषणा की थी। हालांकि, सरकार ने अभी साफ नहीं किया है कि राज्य में अगले चरण में लोगों को मुफ्त टीका लगाया जाएगा या उन्हें इसके लिए भुगतान करना अथवा सरकार किसी तरह की सब्सिडी देगी। राज्य मंत्रिमंडल की २६ अप्रेल को प्रस्तावित बैठक में इस बारे में निर्णय होने की संभावना है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ के सुधाकर ने कहा कि इस बारे में अगले कुछ दिनों में निर्णय होने की संभावना है। उत्तर प्रदेश, असम, केरल सहित कई राज्यों में मुफ्त टीकाकरण की घोषणा की गई है। अधिकारियों के मुताबिक 18 साल से अधिक आयु के लोग 28 अप्रेल से कोविन ऐप पर टीकाकरण के लिए पंजीयन करा सकेंगे।

covid_vaccination_02.jpg

बैठक में बेंगलूरु के मंत्रियों के अलावा स्वास्थ्य मंत्री सुधाकर भी शामिल हुए। सुधाकर ने बताया कि शहर में ऑक्सीजन और दवा की आपूर्ति में कमी से जुड़ी समस्या को दूर कर लिया गया है। सुधाकर ने बताया कि कोरोना के टीके की कोई कमी नहीं है। बैठक में शहर में फीवर क्लिनिकों को बेहतर बनाने, बुखार अथवा अन्य लक्षण वाले मरीजों की जांच करने और सिर्फ जरुरी होने पर ही मरीजों को अस्पताल में भर्ती किए जाने को लेकर दिशा-निर्देश जारी करने का निर्णय लिया गया। येडि ने लोगों की मदद के लिए हेल्पलाइन सेवा को अधिक बेहतर बनाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को बेहतर चिकित्सा और टेलीमेडिसीन सुविधा उपलब्ध कराने को प्राथमिकता देने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने निजी अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए बिस्तर आरक्षित रखने और संबंधित क्षेत्र के पुलिस उपाधीक्षकों को अस्पतालों का दौरा कर इसकी व्यवस्था सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। येडियूरप्पा ने अधिकारियों से स्वास्थ्य कर्मियों का नैतिक बल बढ़ाने के लिए भी प्रयास करने के निर्देश दिए। श्मशान घाटों और शवदाह गृहों पर एंबुलेंसों की लंबी कतारों को देखते हुए शवों को रखने के लिए अतिरिक्त जगह की व्यवस्था करने और कोरोना प्रबंधन में जरुरत पडऩे पर स्वयंसेवकों की मदद लेने के भी निर्देश दिए।

Jeevendra Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned