कर्नाटक : टीकाकरण सेवा शुल्क तीन गुना करने की मांग

- अभी 100 रुपए है शुल्क

By: Nikhil Kumar

Published: 28 May 2021, 07:19 PM IST

बेंगलूरु. प्राइवेट हॉस्पिटल्स एंड नर्सिंग होम्स एसोसिएशन (पीएचएएनए) ने कोरोना टीका सेवा शुल्क को मौजूदा 100 से 300 रुपए करने की मांग की है। पीएचएएनए के अनुसार कोल्ड चेन, भंडारण और लॉजिस्टिक जरूरतों पर भारी खर्च होता है। टीका संबंधी अन्य खर्च भी हैं।

पीएचएएनए ने स्वास्थ्य विभाग के अपर प्रधान सचिव को भेजे पत्र में कहा है कि निर्माताओं से टीकों की सीधी खरीद में सरकार को जो भुगतान किया जा रहा था, उससे लगभग चार से आठ गुना अधिक खर्च होता है।

पीएचएएनए के अध्यक्ष डॉ. एच. एम. प्रसन्ना ने कहा कि टीके के लिए निजी अस्पतालों को लाखों रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं। प्रत्येक अस्पताल को कोल्ड चेन, लॉजिस्टिक्स, सुरक्षित भंडारण और चोरी से सुरक्षा पर भी पैसा खर्च करने की जरूरत है। ऑन साइट टीकाकरण बूथ स्थापित करने में भी अतिरिक्त खर्च है। स्वास्थ्य कर्मियों को निजी सुरक्षा उपकरण की जरूरत भी पड़ती है। केवल 100 रुपए प्रति खुराक लेना पर्याप्त नहीं होगा क्योंकि इसमें शामिल लागत 250 रुपए प्रति खुराक को पार कर जाएगी।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned