कर्नाटक में जिम, तरणताल बंद, सिनेमाघरों में 50 फीसदी दर्शक ही देख सकेंगे फिल्म

  • लॉकडाउन नहीं मगर पाबंदियों की वापसी

By: Nikhil Kumar

Published: 03 Apr 2021, 09:10 AM IST

बेंगलूरु. कर्नाटक में कोरोना के नए मामलों में तेजी से हो रही वृद्धि के कारण पाबंदियों की भी वापसी हो रही है। हालांकि, अभी सरकार ने लॉकडाउन या रात्रिकालीन कफ्र्यू से इनकार किया है। सर्वाधिक प्रभावित बेंगलूरु शहर सहित कई जिलों में सिनेमाघर अगले आदेश तक सिर्फ आधी क्षमता के साथ ही चलेंगे तो अपार्टमेंटों में कॉमन सेवाओं के उपयोग पर भी रोक लगा दी गई है। जिन कक्षाओं के लिए बोर्ड या विश्वविद्यालय की परीक्षाएं नहीं होनी हैं, उनकी ऑफलाइन कक्षाओं पर भी रोक लगा दी गई है।

कर्नाटक आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एसडीएमए) ने शुक्रवार को एक बार फिर कहा कि कर्नाटक में कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है। नियंत्रण के लिए कोविड से जुड़ी पाबंदियों को और सख्त करने और पहले से जारी आदेशों को सख्ती से लागू करने की जरूरत है। सरकार ने शुक्रवार को नई पाबंदियां लागू की। ये पाबंदियां 20 अप्रेल तक प्रभावी रहेंगी।

ऑफलाइन कक्षाओं पर सीमित रोक
शुक्रवार को मुख्य सचिव पी रवि कुमार के मुताबिक छठी से नौंवी तक की स्कूली कक्षाओं पर रोक लगा दी गई है। इन कक्षाओं के लिए विद्यागम कार्यक्रम भी स्थगित रहेंगे। हालांकि, 10वीं से 12वीं तक की कक्षाएं परिसरों में सुरक्षा मानकों के साथ संचालित की जा सकेंगी। लेकिन, विद्यार्थियों की उपस्थिति अनिवार्य नहीं होगी। स्वास्थ्य विज्ञान और बोर्ड व विश्वविद्यालय की परीक्षा वाले कक्षाओं को छोड़कर उच्च शिक्षा या वाणियक पाठ्यक्रमों की परिसर कक्षाएं स्थगित रहेंगी। बोर्डिंग स्कूल और छात्रावास भी सिर्फ उन्हीं कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए खुली रहेगी जिनकी बोर्ड या विवि परीक्षाएं होनी हैं। धार्मिक स्थलों पर किसी तरह के कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति नहीं होगी। हालांकि, श्रद्धालु वहां जाकर दर्शन और प्रार्थना कर सकेंगे।

जितनी सीट, उतनी सवारी
अपार्टमेंट कॉम्पेलक्सों में जिम, पार्टी हॉल, स्वीमिंग पूल, क्लब हाउस आदि बंद रहेंगे। साथ ही बढ़ते मामलों को देखते हुए जिम और तरणताल भी बंद रहेंगे। धरना-प्रदर्शनों पर रोक जारी रहेगी। सार्वजनिक परिहवन में भी सिर्फ उतने ही लोग सफर कर सकेंगे जितनी सीटें होंगी।

रेस्तरां, पब भी पाबंदियों के दायरे में
बेंगलूरु सहित आठ जिलों में सिनेमाघरों में दर्शकों के लिए एक सीट छोड़कर बैठने की व्यवस्था होगी और अधिकतम सीट क्षमता के 50 प्रतिशत दर्शकों को ही फिल्म देखने की अनुमति होगी। यह व्यवस्था बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका क्षेत्र सहित बेंगलूरु शहरी व ग्रामीण जिले, मैसूरु, कलबुर्गी, दक्षिण कन्नड़, उडुपी, बीदर और धारवाड़ जिले में लागू होगी। इन जिलों में रेस्तरां, पब, बार, क्लब आदि में ग्राहकों की संख्या कुल क्षमता की 50 फीसदी ही रहेगी। मास्क, सामाजिक दूरी सहित अन्य सुरक्षा मानकों का उल्लंघन पर कोरोना महामारी समाप्त होने तक इन प्रतिष्ठानों को बंद कर दिया जाएगा। हाल की में बेंगलूरु के कई अपार्टमेंट और पब में कोरोना के क्लस्टर की पुष्टि हुई थी।

Show More
Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned