कर्नाटक : विपक्ष को एक मंच पर लाने का मौका

शपथ ग्रहण समारोह 2019 में होने जा रहे लोकसभा के चुनाव के लिए कांग्रेस सहित गैर भाजपा पार्टियों के लिए एकजुटता का मंच बनने जा रहा है

By: Ram Naresh Gautam

Published: 22 May 2018, 03:42 PM IST

बेंगलूरु. जनता दल (ध) के प्रदेश अध्यक्ष व मुख्यमंत्री के पद पर मनोनीत एच.डी. कुमारस्वामी बुधवार शाम 4.30 बजे विधानसौधा की सीढिय़ों पर निर्मित किए जा रहे विशाल मंच पर राज्य के 25 वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे। राज्यपाल वजूभाई वाळा कुमारस्वामी को पद व गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे। यह शपथ ग्रहण समारोह 2019 में होने जा रहे लोकसभा के चुनाव के लिए कांग्रेस सहित गैर भाजपा पार्टियों के लिए एकजुटता का मंच बनने जा रहा है।
शपथ ग्रहण समारोह में यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी, बसपा प्रमुख मायावती , पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी , आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर, द्रमुक के एम.के. स्टालिन, केरल के दो मंत्रियों के साथ ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल , जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला और भाजपा के नेता शत्रुघ्र हसिंह के भी सहित कांग्रेस के अनेक वरिष्ठ नेताओं के भाग लेने की संभावना है। विपक्षी दलों ने समारोह में एक मंच पर आकर अपनी एकजुटता प्रदर्शित करने का निश्चय किया है।

बताया जाता है कि इसके पीछे जनता दल (ध) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एच.डी. देवेगौड़ा का दिमाग काम कर रहा है और वे पिछले तीन दिन से सोनिया गांधी, वाम दलों के नेताओं, गैर भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से संपर्क कर अपने पुत्र के शपथ ग्रहण समारोह मे भाग लेने को आमंत्रित कर रहे हैं। विपक्षी एकता का मंच तैयार करने के मकसद से ही कुमारस्वामी ने अपना शपथ ग्रहण कार्यक्रम दो दिनों के लिए आगे सरकाया है और उन्होंने मुख्यमंत्री बनाने में प्रमुख भूमिका अदा करने वाली सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी व बसपा अध्यक्ष मायावती से दिल्ली में खुद मुलाकात कर समारोह में भाग लेने को व्यक्तिगत तौर पर आमंत्रित किया है।

समारोह की तैयारियां जोरों पर
शपथ समारोह के लिए विधानसौधा के सामने एक विशेष मंच तैयार किया जा रहा है। इस समारोह में बारिश का खलल टालने के लिए एहतियाती उपाय किए गए हैं। देवेगौड़ा की सलाह पर राज्य की मुख्य सचिव रत्नप्रभा तथा पुलिस महानिदेश नीलमणि राजु ने सोमवार की शाम अधिकारियों की बैठक बुलाकर शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियों की समीक्षा की और अधिकारियों को समुचित निर्देश दिए। समारोह में कुमारस्वामी के समर्थकों के बड़े संख्या में भाग लेने की संभावना को देखते हुए विधानसौधा से एक किमी के दायरे को बुधवार दोपहर बाद यातायात मुक्त करने का निर्र्णय किया गया है। इस समारोह में 2 लाख से अधिक लोगों के भाग लेने की संभावना व्यक्त की जा रही है। हालांकि पहले कुमारस्वामी ने कंटीरवा स्टेडियम में शपथ लेने का निश्चय किया था लेकिन राष्ट्रीय नेताओं के आगमन व उनकी सुरक्षा को ध्यान में रखकर विधानसौधा के सामने ही समारोह करने का निर्णय किया गया है।

Congress
Show More
Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned