scriptKarnataka politics: Why BJP changed unwritten rules for Yediyurappa | कर्नाटक की राजनीति: येडियूरप्पा के लिए भाजपा ने क्यों बदला अलिखित नियम | Patrika News

कर्नाटक की राजनीति: येडियूरप्पा के लिए भाजपा ने क्यों बदला अलिखित नियम

  • 75 साल की उम्र वाला नियम भी शिथिल
  • समीकरणों को साधने की कोशिश

 

बैंगलोर

Updated: August 19, 2022 02:50:25 am

बेंगलूरु. केंद्र और राज्य में सत्तारुढ़ भाजपा ने पार्टी के सर्वोच्च निर्णायक निकाय संसदीय बोर्ड के पुनर्गठन में पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता बीएस येडियूरप्पा को शामिल किया है। संसदीय बोर्ड का सदस्य होने के कारण येडियूरप्पा पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति के भी पदेन सदस्य बनाए गए हैं। अगले साल होने वाले विधानसभा से पहले येडियूरप्पा को पार्टी के दो शीर्ष निकायों में स्थान देने को राजनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण माना जा रहा है। येडियूरप्पा ने पिछले साल जुलाई में मुख्यमंत्री पद छोड़ा था। हाल ही में येडियूरप्पा ने सक्रिय राजनीति से संन्यास का संकेत दिया था। लेकिन, नई नियुक्ति के साथ यह भी स्पष्ट हो गया है कि फिलहाल येडियूरप्पा सक्रिय में बने रहेंगे। साथ ही राज्य की राजनीति में भी उनकी भूमिका बनी रहेगी।
bsy1.jpg
पार्टी सूत्रों का कहना है कि नई जिम्मेदारी देकर पिछले कुछ समय से नाराज चल रहे येडियूरप्पा को राजी करने की कोशिश की गई है। येडियूरप्पा ने पिछले महीने अगला विधानसभा चुनाव नहीं लडऩे का संकेत देते हुए शिवमोग्गा जिले की अपनी शिकारीपुर विधानसभा सीट छोटे बेटे व प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष बीवाई विजयेंद्र के लिए छोडऩे की बात कही थी। येडियूरप्पा के ऐसी घोषणा करने से भाजपा की मुश्किल बढ़ गई थी। हालांकि, बाद में येडियूरप्पा ने कहा कि विजयेंद्र के चुनाव लडऩे के बारे में भाजपा आलाकमान निर्णय करेगा। हाल ही में शहर के दौरे पर आए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भी येडियूरप्पा ने मुलाकात की थी।

अनुभवी नेताओं को सम्मान देने का संदेश
सूत्रों का कहना है कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले वरिष्ठ लिंगायत नेता को संसदीय बोर्ड का सदस्य बनाकर पार्टी ने पुराने और अनुभवी नेताओं को सम्मान देने के संदेश के साथ ही राजनीतिक लक्ष्यों को भी साधने की कोशिश की है। पार्टी आलाकमान यह सुनिश्चित करना चाहता है कि येडियूरप्पा खुद को दरकिनार महसूस नहीं करें। पार्टी को इस बात की चिंता है कि अगर येडियूरप्पा चुनाव के समय सक्रिय नहीं रहे तो इससे पार्टी के चुनावी हितों पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है। विपक्षी कांग्रेस नेता येडियूरप्पा को दरकिनार किए जाने को लेकर भाजपा पर निशाना साधते रहे हैं। लिंगायत समुदाय में भाजपा की अच्छी पकड़ मानी जाती है। पिछले कुछ सालों के दौरान 75 वर्ष से अधिक उम्र के नेताओं को पद अथवा चुनाव में टिकट नहीं देने का अघोषित नियम रहा है मगर पार्टी ने येडियूरप्पा (79) की नियुक्ति के मामले में इस नियम को भी शिथिल कर दिया।

वोट बैंक को सुरक्षित रखने की कवायद
भाजपा के एक पदाधिकारी ने कहा कि जब हर कोई येडियूरप्पा की राजनीतिक पारी की अंत की उम्मीद कर रहा था तब यह नियुक्ति निश्चित रूप से उनके लिए काफी महत्वपूर्ण है। पार्टी निश्चित रूप से उनकी आवश्यकता और ताकत को महसूस करती है और इसका उपयोग करना चाहती है। पार्टी नेतृत्व उन्हें भरोसे में रखना चाहता है और आसन्न विधान सभा चुनाव में उनसे यथासंभव लाभ हासिल करना चाहता है। भाजपा के एक नेता ने कहा कि कांग्रेस येडियूरप्पा को पार्टी में दरकिनार किए जाने की बात कहकर लिंगयातों को लुभाने की कोशिश कर रही थी मगर अब उसकी यह चाल काम नहीं करेगी। एक अन्य नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री बोम्मई भी लिंगायत समुदसय से ही है मगर येडियूरप्पा के कद और समुदाय में उनके प्रभाव की तुलना नहीं की जा सकती है। येडियूरप्पा न सिर्फ समुदाय के सबसे कद्दावर नेता हैं बल्कि जननेता है और पार्टी इसकी उपेक्षा नहीं कर सकती थी।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

जम्मू-कश्मीर: उधमपुर धमाके की जांच के लिए फॉरेंसिक एक्सपर्ट के NIA की टीम रवाना, आतंकी साजिश की आशंकाआज से 2 दिन के गुजरात दौरे पर प्रधानमंत्री मोदी, 29 हजार करोड़ रुपए की परियोजनाओं की देंगे सौगातNew CDS: रिटायर्ड ले. जनरल अनिल चौहान को मिली CDS की कमान, अजीत डोभाल के करीबी और आतंकवाद पर लगाम लगाने में हैं माहिरहाई कोर्ट बार एसोसिएशन के चुनाव आज, इन दिग्गजों में होगी टक्करमहंगी हुई मिठाइयां, कीमतों में 5 प्रतिशत की तेजीसरकारी कर्मचारियों का गहलोत सरकार ने बढ़ाया डीए, दिवाली से पहले बड़ा तोहफापद्मश्री राम सुतार बनाएगें अयोध्या में लगाने वाली विश्व की सबसे ऊंची श्री राम की मूर्ति.....जाने कब होगा स्थापितबारिश से जर्जर मकान, ले डूबा चार मासूमों की जान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.