कर्नाटक : द्वितीय पीयू परिणाम घोषित, सभी हुए उत्तीर्ण

- 2,239 विद्यार्थियों को शत-प्रतिशत अंक

By: Nikhil Kumar

Published: 21 Jul 2021, 11:57 AM IST

बेंगलूरु. प्री-यूनिवर्सिटी शिक्षा विभाग (डीपीयूइ) ने मंगलवार को द्वितीय पीयू परीक्षा के परिणाम जारी कर दिए। सात को छोड़कर बाकी सभी परीक्षार्थी उत्तीर्ण घोषित किए गए हैं। इस साल कोरोना के कारण द्वितीय पीयू की परीक्षा आयोजित नहीं की गई थी। दसवीं, ग्यारहवीं की अंकों और आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर परिणाम घोषित किए गए।

परीक्षा के लिए पंजीकृत 6,66,497 विद्यार्थियों में से 2,239 ने पूरे यानी 600 में से 600 अंक हासिल किए हैं। पहली बार इतनी बड़ी संख्या में छात्रों को पूरे अंक मिले हैं। इनमें से 1,929 विद्यार्थी विज्ञान, 292 विद्यार्थी वाणिज्य और 18 विद्यार्थी कला संकाय से हैं।

परिणाम जारी करते हुए प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा मंत्री एस. सुरेश कुमार ने कहा कि 95,628 उम्मीदवारों ने डिक्सटिंक्शन (85 प्रतिशत से अधिक अंक) प्राप्त किए हैं। 3,55,078 विद्यार्थियों ने 60 से 85 फीसदी के बीच अंक प्राप्त किए हैं। अन्य वर्षों की तुलना में इस वर्ष उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन में शिक्षकों को अधिक मेहनत करनी पड़ी है। प्रत्येक छात्र के लिए समग्र अंक तैयार करना एक कठिन प्रक्रिया रही है। इसे सावधानी से पूरा किया गया है। जो विद्यार्थी अंकों में सुधार के लिए फिर से परीक्षा देना चाहते हैं उन्हें कोरोना महामारी के नियंत्रण में आने के बाद अनुमति मिलेगी। परीक्षा का आयोजन 19 अगस्त से 3 सितंबर के बीच होगा। विद्यार्थियों को परीक्षा शुल्क जमा करने की जरूरत नहीं है।

नहीं हुई परीक्षा, मूल्यांकन के आधार पर अंक
मंत्री ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के कारण परीक्षा रद्द कर दी गई थी। फ्रेशर्स और रिपीटर्स दोनों को उत्तीर्ण माना गया है। विद्यार्थियों का मूल्यांकन प्रथम पीयू और 10वीं के अंकों के आधार पर किया गया। प्रथम पीयू और दसवीं (एसएसएलसी) लिए 45-45 फीसदी वेटेज दिया गया। शेष 10 फीसदी अंक आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर प्रदान किए गए हैं। छात्रों को प्रथम वर्ष के पीयू विषयों में से प्रत्येक में पांच अनुग्रह अंक भी दिए गए हैं। विशेष रूप से सक्षम 1478 बच्चों ने भी परीक्षा में कामयाबी हासिल की है। विभिन्न कारणों से सात विद्यार्थियों के नतीजे फिलहाल जारी नहीं किए गए हैं।

जिला इन्हें मिले पूरे अंक
दक्षिण कन्नड़ - 445
बेंगलूरु (दक्षिण) - 302
बेंगलूरु (उत्तर) - 261
उडुपी - 149
हासन - 104

कुछ तथ्य
- कन्नड़ भाषा माध्यम के 2,75,599 और अंग्रेजी भाषा माध्यम के 3,90,898 विद्यार्थी थे
- 3,35,138 लड़कियों और 3,31,359 लड़कों को डिक्सटिंक्शन प्राप्त हुआ
- ग्रामीण क्षेत्रों के 5,18,903 विद्यार्थियों में से 81,385 विद्यार्थी डिक्सटिंक्शन से पास हुए जबकि शहरी क्षेत्रों के विद्यार्थियों के मामले में यह संख्या 14,243 रही

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned