कर्नाटक: सप्ताह भर में दो सीएम

येड्डियूरप्पा सिर्फ ढाई दिन ही पद पर रहे

By: Ram Naresh Gautam

Published: 24 May 2018, 05:04 PM IST

बेंगलूरु. राज्य में इस महीने तीन मुख्यमंत्री रहे। 12 मई को हुए विधानसभा चुनाव के समय सिद्धरामय्या मुख्यमंत्री थे, जबकि इसके बाद पहले बीएस येड्डियूरप्पा और अब कुमारस्वामी मुख्यमंत्री हैं। येड्डियूरप्पा सिर्फ ढाई दिन ही पद पर रहे। गौरतलब है कि 15 मई को पंद्रहवीं विधानसभा चुनाव के आए परिणाम में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने के बाद राज्यपाल ने सबसे बड़े दल के तौर पर उभरे भाजपा के नेता येड्डियूरप्पा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया था।

येड्डियूरप्पा ने 17 मई को शपथ ली और राज्यपाल ने उन्हें एक पखवाड़े में बहुमत साबित करने के लिए कहा था, लेकिन कांग्रेस और जद (ध) की याचिका पर सुनाई करते हुए उच्चतम न्यायालय ने 18 मई को येड्डियूरप्पा को 24 घंटे में बहुमत साबित करने के लिए कहा था। 19 मई को अदालत के आदेश के मुताबिक बहुमत साबित करने से पहले ही येड्डियूरप्पा ने विश्वास मत प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान ही इस्तीफे की घोषणा कर दी। 19 मई की शाम ही राज्यपाल ने कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री नियुक्त करने के साथ ही सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया था। कांग्रेस-जद (ध) गठबंधन सदन में 118 सदस्यों के समर्थन होने का दावा कर रहा है।

 

कुमार के घर में उत्सव जैसा माहौल
बेंगलूरु. शहर के जेपीनगर में स्थित प्रदेश जनता दल (ध) के अध्यक्ष एच.डी. कुमारस्वामी के मकान के परिसर में बुधवार को सुबह त्यौहार जैसा माहौल था। इस मकान को विशेष रूप से सजाया गया था। नंदी ध्वजा, पूजा कुणिता, वीरगासे, ढोल्लु कुणिता जैसे लोककलाकारों की टोलियां मकान के परिसर में नृत्य कर रही थी। सैकड़ों कार्यकर्ता कुमारस्वामी के जयकारे के नारे लगा रहें थे। इस दौरान 108 सुहागन महिलाओं ने कुमारस्वामी को मंगलकलश के साथ पूर्णकुंभ स्वागत किया।

इस अवसर पर मकान में स्थित मंदिर में विशेष पूजा का आयोजन किया गया था। मकान के परिसर में कुमारस्वामी को बधाई देने के लिए उमड़ी भीड को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को काफी मश्तकत करनी पड़ रही थी।मकान में पूजा अनुष्ठान के बाद कुमारस्वामी पत्नी अनिता कुमारस्वामी के साथ मैसूरु में स्थित चामुंडेश्वरी मंदिर के दर्शन के लिए हेलिकॉप्टर से शहर के एचएएल हवाईअड्डे से निकले। कुमारस्वामी ने मुख्यमंत्री के कार्याकाल के दौरान सरकारी बंगले के बदले इसी मकान में रहकर अपना दायित्व निभाने की घोषणा की है।

Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned