राज्य को मिलेंगे रेमडेसिविर के 25 हजार अतिरिक्त इंजेक्शन

केंद्रीय मंत्रियों और सांसद के दखल के बाद केंद्र ने जारी किए आदेश

By: Jeevendra Jha

Published: 23 Apr 2021, 02:37 AM IST

बेंगलूरु. राज्य में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या और गंभीर रोगियों के लिए जीवन रक्षक माने जाने वाले इंजेक्शन रेमडेसिविर की बढ़ती के बीच केंद्र सरकार ने राज्य को अतिरिक्त आवंटन करने की घोषणा की है। केंद्रीय रसायन व उर्वरक मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा ने गुरुवार को कहा कि कर्नाटक को रेमडेसिविर इंजेक्शन के 25 हजार वायल (शीशियां) का अतिरिक्त आवंटन किया गया है। एक दिन पहले ही अन्य राज्यों के साथ कर्नाटक को इंजेक्शन के 25,352 वायल आवंटित किए गए थे।

गौड़ा ने कहा कि राज्य को यह आवंटन 30 अप्रेल तक के लिए आवंटित कोटे के अतिरिक्त किया गया है। गौड़ा ने कहा कि सरकार ने रेमडेसिविर के आयात पर सीमा शुल्क को माफ कर दिया है, इससे इस इंजेक्शन की उपलब्धता बढ़ाने में मदद मिलेगी। गौड़ा ने ट्वीट कर कहा कि राज्य सरकार के अनुरोध पर रेमडेसिविर की उपलब्धता की समीक्षा की गई। इसके बाद राज्य को रेेमडेसिविर के अतिरिक्त २५ हजार वायल उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया।

वैकल्पिक दवा भी उपयोग करें चिकित्सक
उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा कि राज्यों को रेमडेसिविर आवंटित करने प्रक्रिया डायनामिक है और आने वाले समय इसे बेहतर बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में इस इंजेक्शन का उत्पादन दुगुना हो जाएगा। उन्होंने चिकित्सकों से भी अन्य वैकल्पिक दवाओं का उपयोग करने की अपील की ताकि इस दवा की मांग को लेकर दबाव कम हो सके। गौड़ा ने कहा कि रेमडेसिविर अभी सिर्फ अनुसंधान के चरण में ही है और कोरोना के उपचार के लिए अन्य वैकल्पिक जीवन रक्षक दवाएं भी उपलब्ध हैं। चिकित्सकों को अन्य दवाओं के नाम मरीजों को सुझाने चाहिए ताकि रेमडेसिविर की मांग का दबाव नहीं बढ़े।

राज्य ने मांगे थे 2 लाख इंजेक्शन
कोरोना के नए मामलों में तेजी से वृद्धि के कारण राज्य सरकार ने गुरुवार को केंद्र से रेमडेसिविर के कम से कम दो लाख इंजेक्शन उपलब्ध कराने की मांग की थी। हालांकि, केंद्र का रुख शुरु में ज्यादा सकारात्मक नहीं था। लेकिन, राज्य के सांसदों के दखल के बाद केंद्र सरकार ने 25 हजार इंजेक्शन का अतिरिक्त आवंटन करने पर सहमति जताई। राज्य को अतिरिक्त आवंटन दिलाने के लिए केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन, केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी और लोकसभा सदस्य तेजस्वी सूर्य ने भी केंद्र सरकार से आग्रह किया। राज्य सरकार के पत्र भेजने के बाद तेजस्वी ने निर्मला के समक्ष इस मसले को उठाया। निर्मला ने ट्वीट कर कहा कि सांसद तेजस्वी ने राज्य में रेमडेसिविर की कमी का मसला उठाया था। इसके बाद राज्य को अतिरिक्त आवंटन किया गया है और आने वाले दिनों में राज्य को और भी आपूर्ति की जाएगी। राज्य के स्वास्थ्य विभाग को भेजे पत्र में केंद्र सरकार के संयुक्त सचिव नवदीप रिणवा ने कहा कि कर्नाटक सरकार के दो लाख इंजेक्शन उपलब्ध कराने के आग्रह पर विचार किया गया और 30 अप्रेल तक के लिए 25 हजार इंजेक्शन का अतिरिक्त आवंटन करने का निर्णय लिया गया। अधिकारियों के मुताबिक 30 अप्रेल के बाद फिर से राज्य की स्थिति को देखते हुए आवंटन किया जाएगा। सांसद तेजस्वी ने राज्य को इंजेक्शन का अतिरिक्त आवंटन किए जाने पर कहा कि इससे राज्य में कोरोना रोगियों के उपचार में मदद मिलेगी।


मांग के अनुरुप इंजेक्शन उपलब्ध कराएगी सरकार : सुधाकर
इससे पहले राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉ के. सुधाकर ने मैसूरु में कहा था कि राज्य को रेमडेसिविर की कमी की स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि, राज्य में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। सुधाकर ने कहा कि आठ-नौ कंपनियां ही रेमडेसिविर का उत्पादन करती हैं और इन कंपनियों ने नवम्बर से मार्च के बीच उत्पादन बंद कर दिया था। मंत्री ने कहा कि यह दवा विश्व स्वास्थ्य संगठन की सूची में नहीं है लेकिन अधिक प्रचार के कारण इसकी मांग बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि कोरोना के उपचार के लिए इससे ज्यादा महत्वपूर्ण स्टेरॉयड है। सुधाकर ने कहा कि सरकार मांग के मुताबिक रेमडेसिविर की आपूर्ति के लिए सभी कदम उठा रही है।

Jeevendra Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned