कर्नाटक : सीइटी के आधार पर ही इंजीनियरिंग व अन्य पेशेवर पाठ्यक्रमों में मिलेगा दाखिला

- 28 अगस्त से होगी सीइटी परीक्षा

By: Nikhil Kumar

Published: 09 Jun 2021, 12:04 PM IST

बेंगलूरु. कर्नाटक सरकार ने मंगलवार को घोषणा की कि इंजीनियरिंग, प्रौद्योगिकी, योग व प्राकृतिक चिकित्सा, कृषि विज्ञान और फार्मा पाठ्यक्रमों सहित स्नातक व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश संयुक्त प्रवेश परीक्षा (सीइटी) में भाग लेने वाले छात्रों द्वारा प्राप्त अंकों को देखते हुए रैंक के आधार पर होगा। द्वितीय वर्ष के प्री-यूनिवर्सिटी परीक्षा ग्रेड या अंकों के आधार पर नहीं। सीइटी 28 अगस्त से आयोजित होगी। पंजीकरण प्रक्रिया 15 जून से शुरू होगी।

शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ मंगलवार को आयोजित उच्च स्तरीय बैठक में हिस्सा लेने के बाद उप मुख्यमंत्री डॉ. सी. एन. अश्वथनारायण ने कहा कि सरकार विज्ञान स्नातक डिग्री कार्यक्रमों में प्रवेश पाने के इच्छुक छात्रों के लिए भी सीइटी परीक्षा आयोजित करने की योजना बना रही है। कोरोना महामारी के कारण शिक्षण गतिविधियां प्रभावित हुई हैं। सरकार को बारहवीं की परीक्षा रद्द करनी पड़ी है। ऐसे में सरकार ने सीइटी के लिए आवश्यक न्यूनतम पात्रता अंकों में भी छूट देने का निर्णय लिया है। सरकार अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद, फार्मेसी परिषद और कृषि परिषद जैसी सभी एजेंसियों को पत्र लिखकर प्रवेश के लिए पात्रता में छूट की मांग करेगी।

उन्होंने स्पष्ट किया कि इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए रैंक सीइटी के दौरान पीसीएम (भौतिक शास्त्र, रसायन शास्त्र, गणित) में प्राप्त अंकों के आधार पर प्रदान किया जाएगा। वार्षिक परीक्षा और सीइटी से पीसीएम अंकों को समान अनुपात में मानने की पुरानी पद्धति इस वर्ष के लिए लागू नहीं होगी। नीट की तर्ज पर सीइटी में न्यूनतम योग्यता लागू करने पर विचार जारी है।

उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा विभाग 2021-22 के लिए सभी विज्ञान आधारित पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए सीइटी अंकों को सामान्य आधार मानने पर विचार कर रहा है। सभी विज्ञान आधारित पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए सीइटी को आधार कैसे बनाया जा सकता है सवाल के जवाब उन्होंने कहा कि कुछ पाठ्यक्रमों में कुछ छूट की आवश्यकता हो सकती है और ये उन पाठ्यक्रमों की प्रकृति के आधार पर तय करना होगा।

अश्वथनारायण ने कहा कि इस बार उच्च शिक्षा के लिए पात्र होने वाले छात्रों की कुल संख्या 30 प्रतिशत (दो लाख) से अधिक होने की उम्मीद है। सरकार राज्य भर में स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए कॉलेजों में उपलब्ध सीटों की संख्या में बढ़ाने की योजना बना रही है।

पेशेवर पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए सीइटी रैंकिंग को एकमात्र मानदंड मानने का सुझाव सबसे पहले प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा मंत्री एस. सुरेश कुमार ने दिया था।

परीक्षा कार्यक्रम
- 28 अगस्त को सुबह 10.30 से 11.50 बजे तक जीव विज्ञान और अपराह्न 2.30 बजे से 3.50 बजे तक गणित का पर्चा होगा।
- 29 अगस्त को सुबह 10.30 से 11.50 बजे तक भौतिक शास्त्र और अपराह्न 2.30 बजे से 3.50 बजे तक रसायन शास्त्र विषय की परीक्षा होगी।
- 30 अगस्त को अंतिम परीक्षा में सीमावर्ती राज्यों के कन्नड़भाषी गडिऩाडु सहित अन्य राज्यों के होरुनाडु कन्नड़भाषी शामिल होंगे। सुबह 11.30 बजे से अपराह्न 12.30 तक कन्नड़ भाषा की परीक्षा होगी।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned