कीम्स में कोरोना वायरस जांच शुरू

कीम्स के निदेशक डॉ. रामलिंगप्पा ए. ने बताया कि हर दिन 30-40 नमूने जांचे जा सकते हैं। रोज 100 नमूने जांचे जा सके इसके लिए अतिरिक्त मशीन की जरूरत है। स्वास्थ्य विभाग से मशीन की मांग की गई है।

By: Nikhil Kumar

Published: 08 Apr 2020, 05:25 PM IST

हुब्बल्ली. भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) से इजाजत मिलने के एक दिन बाद बुधवार से कर्नाटक इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस (कीम्स) के लैब में कोरोना वायरस जांच शुरू हो गई। यहां गले के नमूने (थ्रोट स्वाब - throat swab) जांचे जा सकेंगे। माइक्रोबायोलॉजी विभाग स्थित लैब में बुधवार को चार नमूनों की जांच हुई। धारवाड़, हावेरी, गदग व दक्षिण कन्नड़ जिले से भेजे गए नमूनों की जांच यहां होगी। यहां तक कि बेलगावी में लैब स्थापित होने तक वहां से भी नमूने इस लैब में भेजे जाएंगे।

कीम्स (Karnataka Institute of Medical Sciences) के निदेशक डॉ. रामलिंगप्पा ए. ने बताया कि हर दिन 30-40 नमूने जांचे जा सकते हैं। रोज 100 नमूने जांचे जा सके इसके लिए अतिरिक्त मशीन की जरूरत है। स्वास्थ्य विभाग से मशीन की मांग की गई है।

लघु व मध्यम उद्योग मंत्री जगदीश शेट्ट ने भी लैब का दौरा किया। उन्होंने बताया कि लैब में फिलहाल तीन माइक्रोबायोलॉजिस्ट कार्यरत हैं। धारवाड़ स्थित कर्नाटक विश्वविद्यालय से प्रतिनियुक्ति पर दो और माइक्रोबायोलॉजिस्ट लाने की योजना है। उन्होंने कहा कि अब तक नमूने शिवमोग्गा भेजे जा रहे थे। रिपोर्ट आने में दो से तीन दिन लग जाते थे। जबकि हुब्बल्ली लैब से रिपोर्ट आने में 24 घंटे लगते हैं। आइसीएमआर दो से तीन दिनों में बेलगावी लैब को भी जांच के लिए हरी झंडी दे देगा। यंग इंडियन्स व लेडिज सर्कल इंडिया ने स्वाब संग्रह बॉक्स कीम्स को दान किया है।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned