दूध के मूल्यों में प्रति लीटर 2 से 3 रुपए वृध्दि संभव

कर्नाटक दुग्ध उत्पादक संघ के निदेशकों की गुरुवार की बैठक में दूध के मूल्यों में वृद्धि के प्रस्ताव पर विचार विमर्श किया जाएगा। महासंघ के अध्यक्ष बालचंद्र जारकीहोली ने दूध के मूल्यों में प्रति लीटर 2 से 3 रुपए वृद्धि का संकेत देता हुए कहा कि वर्ष 2016 में दूध के मूल्यों में वृद्धि की गई थी उसके पश्चात तीन वर्षों के अंतराल के बाद राज्य सरकार को मूल्य वृद्धि का प्रस्ताव भेजा जा रहा है।

बेंगलूरु.कर्नाटक दुग्ध उत्पादक संघ (केएमएफ) के निदेशकों की गुरुवार की बैठक में दूध के मूल्यों में वृद्धि के प्रस्ताव पर विचार विमर्श किया जाएगा। महासंघ के अध्यक्ष बालचंद्र जारकीहोली ने दूध के मूल्यों में प्रति लीटर 2 से 3 रुपए वृद्धि का संकेत देता हुए कहा कि राज्य के सभी 14 दुध उत्पादक संघ दूध के खरीदी मूल्य में वृध्दि की मांग कर रहें है। वर्ष 2016 में दूध के मूल्यों में वृद्धि की गई थी उसके पश्चात तीन वर्षों के अंतराल के बाद राज्य सरकार को मूल्य वृद्धि का प्रस्ताव भेजा जा रहा है।महासंघ को भरौसा है कि राज्य सरकार इस प्रस्ताव को मंजूरी देगी।
किसान तथा उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा
उन्होंने कहा कि दूध उत्पादक किसानों को प्रति लीटर 4 रुपए प्रोत्साहन राशि भी दी जा रही है। किसान इस क्षेत्र से विमुख ना हो इस लिए किसानों को दूध के सही मूल्य मिलना आवश्यक है। तभी जाकर मांग के अनुपात में दूध की आपूर्ति संभव होगी। राज्य दुग्ध उत्पादक महासंघ आज देश में दूसरे स्थान पर पहुंच गया है।अब राज्य में प्रति दिन 82 लाख लीटर से अधिक दूध का संग्रहण हो रहा है। किसान तथा उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा करने के लिए महासंघ हरसंभव प्रयास कर रहा है।
देशी नस्ल के गाय के दूध की मांग
एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि शहर में देशी नस्ल की गायों के दूध की मांग बढ़ रही है।उपभोक्ताओं को यह दूध 75 रुपए प्रति लीटर के मूल्य पर उपलब्ध किया जा रहा है। इससे देशी नस्ल की गायों के पालन को प्रोत्साहन भी मिल रहा है। देशी नस्ल की गाए प्रति दिन दो से तीन लीटर दूध देती है। लेकिन ुगुणवत्ता में यह दूध श्रेष्ठ होने के कारण उपभोक्ता ऐसे दूध की मांग कर रहें है। शहर के चयनित क्षेत्रों में ऐसा दूध उपलब्ध किया जा रहा है। चरणबद्ध तरीके स इस दूध के वितरण का जाल विस्तारित किया जाएगा।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned