एक लाख टन मक्का खरीदेगा केएमएफ

15 हजार रुपए प्रति टन के मूल्य पर लगभग 1 लाख टन मक्का खरीदा जाएगा

By: Sanjay Kulkarni

Published: 04 Dec 2020, 06:13 AM IST

बेंगलूरु. कर्नाटक दुग्ध उत्पादक महासंघ (केएमएफ) ने किसानों से मक्का खरीदने का फैसला किया है। केएमएफ के अध्यक्ष बालचंद्र जारकीहोली ने यह जानकारी देते हुए कहा कि 15 हजार रुपए प्रति टन के मूल्य पर लगभग 1 लाख टन मक्का खरीदा जाएगा। इस प्रस्ताव को केएमएफ के निदेशकों की बैठक में मंजूरी मिली है।उन्होंने कहा कि जनवरी माह के तीसरे सप्ताह तक मक्का खरीदने की प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

इस फैसले से उत्तर कर्नाटक तथा कल्याण कर्नाटक के मक्का उत्पादक किसानों को काफी राहत मिलेगी। राज्य के विभिन्न जिलों में स्थित केएमएफ के 5 पशु आहार इकाइयों में प्रति वर्ष 6 से 7 लाख टन पशु आहार का उत्पादन होता है।इन इकाइयों के लिए प्रति वर्ष 3 लाख टन मक्के की आवश्यकता है। इस आवश्यकता को पूरी करने के लिए केएमएफ मक्का उत्पादक किसानों से सीधे मक्के की खरीदी करता है।पशु आहार में 35 फीसदी मक्के का उपयोग किया जाता है।

विश्वनाथ के आरोपों की उच्चस्तरीय जांच हो : कांग्रेस

बेंगलूरु. प्रदेश कांग्रेस ने विधान पार्षद एच विश्वनाथ के हूणसूर विधानसभा उपचुनाव में भाजपा के विधान पार्षद सीपी योगेश्वर तथा मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव एन आर संतोष पर पार्टी फंड के दुरुपयोग के आरोपों की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।पार्टी के प्रवक्ता बीएल शंकर ने कहा कि इस मामले में आरोपों की अनदेखी नहीं की जा सकती। विश्वनाथ राजनीति में 4 दशकों से सक्रिय हैं।

उनके आरोपों को हल्के में नहीं लिया जा सकता है। भाजपा सरकार को इस मामले की जांच के आदेश देने चाहिए।उन्होंने कहा कि विश्वनाथ ने योगेश्वर तथा संतोष पर पार्टी की ओर से चुनाव खर्चे के लिए मिली रकम हड़पने का आरोप लगाया है। इस आरोप को लेकर भाजपा को अपनी भूमिका स्पष्ट करनी चाहिए। पार्टी के नेता पूर्व मंत्री एचएम रेवण्णा, पूर्व सांसद वीएस उग्रप्पा उपस्थित थे।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned