महावीर के दर्शन से सीखें समता के सूत्र: साध्वी कंचन प्रभा

  • विजयनगर में भगवान महावीर चित्रकला प्रतियोगिता

By: Santosh kumar Pandey

Published: 22 Feb 2021, 02:10 PM IST

बेंगलूरु. विजयनगर तेरापंथ सभा द्वारा आयोजित भगवान महावीर चित्रकला प्रतियोगिता के मौके पर वर्तमान में वर्धमान की आवश्यकता है विषय पर साध्वी कंचन प्रभा ने कहा कि महावीर दर्शन से समानता और समता के सूत्र सीखे जाएं। साध्वी लावण्यश्री ने कहा कि आज महावीर का महत्वपूर्ण सिद्धांत अनेकांतवाद अनुकरणीय है।

साध्वी अणिमाश्री ने कहा कि भगवान महावीर ने संपूर्ण धरती को ज्ञान का नया आलोक दिया है। उनके जीवन से करुणा का अमोघ सूत्र प्राप्त कर लक्ष्य तक पहुंचा जा सकता है।

साध्वी मंजू रेखा ने कहा कि जिस व्यक्ति ने महावीर को अपना आदर्श माना है उसने निश्चित रूप से सफलता प्राप्त की है। साध्वी सन्मतिप्रभा ने कहा कि भगवान महावीर ने समय प्रबंध का ऐसा सूत्र दिया है जिससे सामाजिक समस्या का समाधान हो सकता है। साध्वी श्री डॉक्टर मंगल प्रज्ञा ने कहा कि भगवान महावीर ने प्रकाश की ऐसी राह प्रदान की है, जिस पर चलकर लक्ष्य तक पहुंचा जा सकता है।

सभी साध्वियों ने महावीर अष्टकम का सामूहिक संगान किया। जैन श्वेतांबर तेरापंथी सभा अध्यक्ष राजेश चावत व सहमंत्री प्रकाश गांधी ने स्वागत किया। प्रकाश लोढा, अभातेयुप कोषाध्यक्ष दिनेश पोखरणा, जैन युवा संगठन के अध्यक्ष रूपचंद कुमट, गांधीनगर सभा अध्यक्ष सुरेश दक, तेयुप विजयनगर अध्यक्ष पवन माण्डोत, महिला मंडल से वीणा बैद, विजय नगर महिला मंडल मंत्री मधु कटारिया, अर्हम भवन मंत्री उम्मेद नाहटा ने विचार व्यक्त किए। किशोर मंडल, कन्या मंडल, एवं महिला मंडल ने सामूहिक गीत का संगान किया।

साध्वी डॉ राजूल प्रभा, साध्वी डॉक्टर चैतन्य प्रभा, एवं साध्वी डॉ शौर्य प्रभा ने साध्वी वृंद का स्वागत किया। तेरापंथ सभा के सह मंत्री प्रकाश गांधी ने विचार व्यक्त किए। सभा उपाध्यक्ष राकेश दुधेड़ीया ने आभार जताया। संचालन साध्वी सुदर्शन प्रभा ने किया।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned