scriptLegal action will be taken against parents if fees are not deposited | फीस नहीं जमा की तो अभिभावकों के खिलाफ करेंगे कानूनी कार्रवाई | Patrika News

फीस नहीं जमा की तो अभिभावकों के खिलाफ करेंगे कानूनी कार्रवाई

  • दरअसल प्रदेश सरकार ने निजी स्कूलों को जारी निर्देश में कहा था कि फीस नहीं देने की स्थिति में वे बच्चों को स्थानांतरण प्रमाणपत्र से वंचित नहीं कर सकते हैं। लेकिन निजी स्कूल हर हाल में फीस वसूलने पर अड़े हुए हैं

बैंगलोर

Published: December 02, 2021 12:29:06 pm

- कर्नाटक निजी स्कूल संघ ने अभिभावकों को चेताया
- स्थानांतरण प्रमाणपत्र जारी करने से इनकार का मामला

बेंगलूरु. एसोसिएटेड मैनेजमेंट ऑफ इंग्लिश मीडियम स्कूल्स इन कर्नाटक (केएएमएस) फीस जमा नहीं करने वाले अभिभावकों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की धमकी दी है। केएएमएस के महासचिव डी. शशिकुमार ने कहा कि सदस्य स्कूलों के प्रतिनिधियों के साथ हाल ही में संपन्न बैठक में यह निर्णय लिया गया।

court

दरअसल प्रदेश सरकार ने निजी स्कूलों को जारी निर्देश में कहा था कि फीस नहीं देने की स्थिति में वे बच्चों को स्थानांतरण प्रमाणपत्र से वंचित नहीं कर सकते हैं। लेकिन निजी स्कूल हर हाल में फीस वसूलने पर अड़े हुए हैं।

शशिकुमार ने कहा कि फीस दिए बिना अभिभावक अगर बच्चों को स्कूल से निकालने की कोशिश करते हैं तो, ऐसे अभिभावकों के खिलाफ केएएमएस धोखाधड़ी के लिए पुलिस में शिकायत दर्ज कराएगा।

शशिकुमार ने बताया कि कर्नाटक उच्च न्यायालय के अनुसार शुल्क भुगतान अनिवार्य है। न्यायालय ने सितंबर में निजी स्कूलों को 2019-2020 शैक्षणिक वर्ष के लिए उनके द्वारा ली जाने वाली ट्यूशन फीस का 85 प्रतिशत वसूलने की अनुमति दी थी।

लोक शिक्षण विभाग ने ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया है कि अभिभावकों के आवेदन के आधार पर वे स्थानांतरण प्रमाणपत्र जारी करें। अभिभावक संघों ने शिकायत की थी कि हामारी के दौरान हुए नुकसान की भरपाई के नाम पर कई स्कूल अत्यधिक शुल्क की मांग कर रहे हैं। इसके बिना स्कूलों ने स्थानांतरण प्रमाणपत्र जारी करने से इनकार कर दिया है।

नहीं बची नैतिकता, निर्णय का स्वागत
वॉयस ऑफ पेरेंट्स एसोसिएशन ने माता-पिता के खिलाफ पुलिस शिकायत दर्ज करने के नवीनतम कदम का स्वागत किया है। एसोसिएशन के राज्य सचिव पी. इ. चिदानंद ने कहा कि मामला अदालत में पहुंचने के बाद स्कूल प्रबंधन फीस को लेकर हलफनामा दाखिल करने के लिए मजबूर हो जाएंगे। अभिभावक भी लंबे समय से फीस संबंधित विवरण की मांग कर रहे हैं। फीस को लेकर पिछले कुछ वर्षों में कई नियमों की धज्जियां उड़ाई गई हैं। निजी स्कूल माता-पिता के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करना चाहते हैं। नैतिकता नाम की कोई चीज नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Coronavirus: स्वास्थ्य मंत्रालय इन 6 राज्यों में कोविड स्थिति पर चिंतित, यहां तेजी से फैल रहा संक्रमणGhana: विनाशकारी विस्फोट में 17 लोगों की मौत, 59 घायलभारत ने जानवरों के लिए विकसित किया पहला कोरोना वैक्सीन,अब शेर और तेंदुए पर ट्रायल की योजना50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीअखिलेश यादव के कई राज सिद्धार्थनाथ सिंह ने खोले, सुन कर चौंक जाएंगेबड़ी खबर- सरकार ने माफ किया पुराना बिल, अब महंगी होगी बिजलीCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतयूपी विधानसभा चुनाव 2022 के दूसरे चरण की 55 विधानसभा सीटों के लिए आज से होगा नामांकन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.