हममें भी समता का प्रादुर्भाव हो: साध्वी लावण्यश्री

  • गांधीनगर में प्रवचन

By: Santosh kumar Pandey

Published: 07 Sep 2021, 08:26 AM IST

बेंगलूरु. सामायिक दिवस पर साध्वी लावण्यश्री के सान्निध्य में अखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद के तत्वावधान में तेरापंथ युवक परिषद, बेंगलुरु द्वारा अभिनव सामायिक का आयोजन हुआ।

इसमे तेयुप बेंगलुरु टीम, ज्ञानशाला प्रशिक्षिका, महिला मंडल एवं संपूर्ण श्रावक समाज ने सजगता से साधना की। साध्वी सिद्धांतश्री ने जप योग, ध्यान योग,त्रिपदी वंदना का विशेष प्रयोग करवाया एवं साध्वी दर्शित प्रभा ने स्वाध्याय योग का प्रयोग करवाते हुए सामायिक की महत्ता पर प्रकाश डाला।

साध्वी लावण्यश्री ने कहा कि आज चतुर्दशी है। आज के दिन तेरापंथ के संविधान का वाचन सबकी उपस्थिति में किया जाता है। सामायिक की अभिनव साधना के बारे में बताते हुए कहा कि जीवन में समता का अवतरण बहुत जरूरी है।

भगवान महावीर ने धर्म का सार समता को कहा। उन्होंने कभी एक स्थान पर बैठ सामयिक नहीं की, माला नहीं फेरी, परंतु उनकी समता की साधना विलक्षण थी। हम भी प्रभु महावीर के अनुयायी हैं। हममें भी समता का प्रादुर्भाव हो ।

साध्वी सिद्धान्तश्री व साध्वी दर्शितप्रभा ने गीत की प्रस्तुति दी। प्रज्ञा संगीत सुधा ने सामायिक गीत का संगान किया। शांतिनगर महिला मंडल ने गीत की प्रस्तुति दी। तेयुप अध्यक्ष विनय बैद ने स्वागत किया। अभिनव सामायिक के संयोजक विक्रम दुगड़ ने कार्यक्रम की जानकारी दी। महासभा सहमंत्री प्रकाश लोढ़ा ने श्रावक निष्ठा पत्र का वाचन किया।

अभातेयुप कोषाध्यक्ष दिनेश पोखरणा ने विचार व्यक्त किए। जितेन्द्र घोषल, प्रवीण बोहरा एवं सम्पूर्ण तेयुप टीम का सराहनीय सहयोग रहा। संचालन सभा सहमंत्री राजेन्द्र बैद ने किया।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned