पत्नी की हत्या मामले में उम्र कैद की सजा और जुर्माना

- फिर भी वह सुधा की पिटाई कर मायके से नकद राशि लाने की मांग करता था।

By: Nikhil Kumar

Published: 01 Mar 2021, 01:18 AM IST

बेंगलूरु. दावणगेरे के प्रथम जिला एवं सत्र न्यायालय ने पत्नी की हत्या के आरोप में आरोपी पति नागराज को उम्र कैद की सजा सुनाई और 25 हजार रुपए का जुर्माना लगाया। दावणगेरे जिले के हुणसाकट्टे गांव निवासी नागराज (26) का विवाह चार माह पहले सुधा (22) से हुआ था। नागराज को दहेज (dowry) में सब कुछ दिया गया था। फिर भी वह सुधा की पिटाई कर मायके से नकद राशि लाने की मांग करता था।

सुधा कई बार पिता के घर जाकर पति की फरमाइश पूरी करचुकी की थी। सुधा का पिता श्रीनिवास कर्ज में डूब चुका था। नागराज ने फिर रुपए (money) लाने के लिए कहा। सुधा के इनकार करने पर नागराज ने 19, अक्टूबर 2018 को उसका गला घोंट कर हत्या (murder) कर दी। दावणगेरे ग्रामीण पुलिस थाने के पुलिस निरीक्षक गुरु बसवराज ने नागराज को गिरफ्तार कर न्यायालय में आरोपपत्र दाखिल किया था।

दोहरे हत्याकांड में संगीतकार को उम्रकैद की सजा

बेंगलूरु. शहर के सिटी सिविल एवं सत्र न्यायालय ने दोहरे हत्याकांड (double murder) मामले में संगीतकार चन्द्रशेखर को उम्रकैद की सजा सुनाई। गिरि नगर निवासी चन्द्रशेखर और उसका पत्नी प्रीति आचार्य के बीच अनबन होने के कारण रोज झगड़े होते थे। प्रीति ने पति के खिलाफ पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई थी।

पुलिस ने चन्द्रशेखर को गिरफ्तार किया था। वह कुछ दिन बाद जमानत पर रिहा हुआ था। उसने 23 मार्च 2013 की रात पत्नी प्रीति और साली वेदा पर लोहे की छड़ से हमला कर दोनोंं की हत्या की थी। गिरि नगर पुलिस ने दोहरे हत्या का मामला दर्ज कर चन्द्रशेखर को गिरफ्तार कर न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल किया था। सरकारी वकील एच.आर.सत्यवती ने मुकदमे की पैरवी की थी। चन्द्रशेखर आठ सालों से जेल में बन्द है और परप्पन अग्रहार केन्द्रीय जेल में होने वाले कार्यक्रमों में संगीत देने के अलावा गाने भी गाता है।

Show More
Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned