कोरोना : चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने 48 घंटे में निजी अस्पतालों को दूसरी बार चेताया

  • असिंप्टोमेटिक मामलों की निगरानी के लिए कोविड देखभाल केंद्र जल्द

By: Nikhil Kumar

Updated: 17 Jun 2020, 01:38 AM IST

बेंगलूरु. चिकित्सा शिक्षा व कोविड-19 मंत्री डॉ. के. सुधाकर ने मंगलवार को कहा कि गत दो सप्ताह में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ी है। असिंप्टोमेटिक मामलों की निगरानी व संक्रमितों के उपचार के लिए कोविड देखभाल केंद्र स्थापित किए जाएंगे।

विधान सौधा में एक प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे डॉ. सुधाकर ने कहा कि उन्होंने उच्च अधिकारियों व विशेषज्ञों से अन्य राज्यों में कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए उठाए गए सर्वश्रेष्ठ प्रभावी कदमों पर विचार-विमर्श किया है और इसके आधार पर कई निर्णय लिए गए हैं।

गत दो दिनों में उन्होंने दूसरी बार कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई में निजी अस्पतालों की भूमिका को अहम बताया पर साथ में उपचार से मना करने वाले अस्पतालों को चेताया भी। उन्होंने कहा कि जल्द ही बिस्तर, आइसीयू और वेंटिलेटर की सं या के संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे।

15 से 25 हजार लोगों को जांचने का लक्ष्य
डॉ. सुधाकर ने कहा कि बढ़ते मामलों के मद्देनजर प्रतिदिन 15 से 25 हजार लोगों के जांचने का प्रयास जारी है। सफाईकर्मी, वेंडर, पुलिसकर्मी, स्वास्थ्यकर्मी सहित अग्रिम मोर्चे पर तैनात लोगों को सबसे पहले जांच के अंतर्गत लाया जाएगा। एसएआरआइ व आइएलआइ के लक्षण वालों की अनिवार्य जांच भी होगी।

20 हजार बिस्तर सुनिश्चित करने के निर्देश
विभिन्न चरणों में उपचार और देखभाल पर सलाह देने के लिए एक विशेष समिति बनाई गई है। बीबीएमपी आयुक्त को कोविड देखभाल केंद्रों में 20 हजार बिस्तर सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। इससे कोविड अस्पताल पर बोझ कम होगा। टेस्टिंग बढ़ाने के लिए लैबों की संख्या बढ़ाएंगे।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned