scriptMental disorder of human greed: Acharya Devendrasagar | लोभ मानव का मानसिक विकार: आचार्य देवेन्द्रसागर | Patrika News

लोभ मानव का मानसिक विकार: आचार्य देवेन्द्रसागर

locationबैंगलोरPublished: May 25, 2023 04:00:30 pm

  • कोलार जैन संघ ने किया स्वागत

devendraa.jpg
,,
बेंगलूरु. लोभ मनुष्य के जीवन के पराभव का पतन द्वार है। लोभ मनुष्य के जीवन का ऐसा मानसिक विकार है, जो उसके उत्कर्ष में बाधा डालता है। लोभी व्यक्ति आचरण से हीन हो जाता है वह अपने स्वाभिमान को भुलाकर किसी कामना के वशीभूत होकर चाटुकार बन जाता है, उसका अपना व्यक्तित्व नष्ट हो जाता है और किसी से कुछ पाने की आशा में अपना सब कुछ गंवा देता है।
Copyright © 2023 Patrika Group. All Rights Reserved.