नौकरी के नाम पर ठग लिए लाखों

सात युवकों को धोखा

By: Santosh kumar Pandey

Published: 02 Sep 2020, 03:31 PM IST

बेंगलूरु. जेरॉक्स की दुकान चलाने वाले एक व्यक्ति ने रेलवे में कथित सांसद कोटे से नौकरी दिलाने के नाम पर सात युवकों को करीब १० लाख रुपए की चपत लगा दी गई।

पुलिस के अनुसार महेश नामक एक व्यक्ति मुनेश्वर ब्लॉक में जेराक्स की दुकान चलाता है। वहां ए.एम.तेजस नामक युवक जेराक्स और सरकारी विभागों में नौकरियों की अर्जियां खरीदने जाता था। दोनों का परिचय होने पर महेश ने तेजस को सांसद कोटे से रेलवे विभाग में नौकरी दिलाने का आश्वासन दिया।

तेजस ने उस पर विश्वास करते हुए अपने छह मित्रों को भी नौकरी दिलाने का अनुरोध किया। महेश ने सात युवकों से कुल 10 लाख रुपए लिए। सातों युवकों को नई दिल्ली ले जाकर उसने वहां मेडिकल और फिटनेस प्रमाण पत्र बनाए। एक होटल में पवन कुमार औरएक महिला सुमा से परिचय कराया।

महेश ने रेलवे विभाग में नियुक्ति पत्र देकर सभी युवकों को बेंगलूरु वापस भेजा था। महेश ने युवकों को बताया कि दस्तावेजों की जांच-पड़ताल का कार्य पूरा हुआ। फिर फरवरी में वाराणसी में प्रशिक्षण के नाम पर दो माह तक किराये के होटल मेंं ठहराया। वहां जाली पहचान कार्ड और नियुक्ति पत्र देकर उन्हें वापस बेंगलूरु भेज दिया।

महेश कोरोना महामारी के कारण नियुक्ति प्रक्रिया में देरी होने का कारण बता कर युवकों को चकमा देता रहा। फिर वह १७ अगस्त को सभी सात युवकों को नईदिल्ली ले गया और वहां से गायब हो गया।

महेश का मोबाइल और जेराक्स की दुकान भी बंद है। सातों युवकों की शिकायत पर पुलिस मामला दर्ज कर महेश और उसके दो साथियों को तलाश कर रही है।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned