संयमित भोजन मनुष्य को स्वस्थ रखता है-आचार्य महेन्द्रसागर

धर्मसभा का आयोजन

By: Yogesh Sharma

Published: 14 Sep 2021, 07:45 AM IST

बेंगलूरु. महावीर स्वामी जैन श्वेतांबर मूर्ति पूजक संघ त्यागराजनगर में विराजित आचार्य महेंद्रसागर सूरी ने कहा कि सुमन स्वयं तो सुशोभित होता ही है, साथ ही वातावरण को भी सुगंधित कर देता है। वैसे ही संयमित भोजन करने वाला व्यक्ति स्वयं को जिनाज्ञा का पालन करता ही है औरों को भी उसके जरिए मदद करता है। आत्मा का गुण अणाहारी है। आत्मा खाली नहीं है। किंतु वह देह के साथ रही है। इसलिए उसे आहार की आवश्यकता है। जैसे हम किराया देते हैं वैसे ही हमें भोजन करना है। किंतु हम भोजन करते समय सब कुछ भूल ही जाते हैं। आज के मानव ने अपने जीवन की सफलता खाओ पियो और मौज मौज मजा करो सिद्धांत पर कर ली है। परंतु खाने-पीने और मौज मजा करने की सजा जब आत्मा को भोगनी पड़ेगी। तब उसे बचाने वाला कोई नहीं मिलेगा। आज के डॉक्टरों का कहना है कि कम खाना स्वस्थ जीवन के लिए जरूरी है।
इस अवसर पर रविवार रात को भैरव भक्त परिवार की ओर भजन संध्या का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के दौरान टाटगढ़ भैरव का गुणगान किया गया। स्तवन कलाकारों ने श्रद्धालुओं को भैरव भक्ति से अवगत कराया। भजन संध्या के दौरान भैरव भक्त परिवार के महेश चौधरी का बहुमान किया गया। इस दौरान तेलंगाना से जिंकेश चौहान, प्रकाश गौड़ा, रमेश तलावत, अरुण जोधावत, सुमित तिवारी, विजय सुराणा, महावीर चौधरी,राहुल मूथा, और नीतू राठौड़ उपस्थित थे।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned