राफेल पर राहुल का आरोप, मोदी ने 'मित्र' के लिए बदला करार

राहुल ने राफेल सौदे को लेकर मोदी सरकार से कुछ सवाल भी पूछा

होसपेट (बल्लारी). कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को यहां जन आशीर्वाद यात्रा की शुरुआत करते हुए युद्धक विमान राफेल के सौदे को लेकर एक बार फिर मोदी सरकार पर निशाना साधा। राहुल ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दोस्त के लिए राफेल सौदे के करार में बदलाव कराया।
राहुल ने कहा कि यूपीए सरकार ने राफेल का खरीदने का सौदा किया था और उसका ठेका बेंगलूरु की सरकारी कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स को दिया गया था,जो 70 साल से यह काम करती। लेकिन, मोदी जब फ्रांस गए तो उन्होंने सौदे में बदलाव करवाया और उसका ठेका एचएएल से छीनकर अपने मित्र को दे दिया। मोदी ने ऐसा कर बेंगलूरु के युवाओं से उनका भविष्य छीना है। राहुल ने कहा कि मोदी जब फ्रांस में राफेल की सौदा कर रहे थे, उस वक्त रक्षा मंत्री गोवा में मछली खरीद रहे थे। राहुल ने राफेल सौदे को लेकर मोदी सरकार से कुछ सवाल भी पूछा।

बल्लारी ने मुश्किल वक्त में दिया साथ
राहुल गांधी ने राज्य में कांग्रेस की सत्ता बचाने के लिए करो या मरो अभियान की शुरुआत उसी बल्लारी से की है जहां से 19 साल पहले उनकी मां सोनिया गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद संसदीय चुनाव में कदम रखने के लिए पहला चुनाव लड़ा था। सोनिया ने उस वक्त भाजपा उम्मीदवार सुषमा स्वराज को हराया था। हालांकि, अमेठी से भी लोकसभा चुनाव जीतने के कारण सोनिया ने बल्लारी सीट छोड़ दी थी। राहुल ने अपने भाषण में 1999 के लोकसभा चुनाव का भी जिक्र किया और कहा कि बल्लारी की जनता ने उन्हें उस वक्त चुना जब उन्हेें राजनीतिक तौर पर उसकी सबसे ज्यादा जरुरत थी। राहुल ने कांग्रेस के लिए मतदान करने की अपील करते हुए कहा कि सोनिया और हमारे-आपके बीच पुराना रिश्ता है। जब भी उन्हें आपकी जरूरत हुई, आपने उनका साथ दिया और कांग्रेस को स्वीकार किया है। राहुल चार दिन के प्रचार अभियान के दौरान कई रैलियां और जनसभाएं संबोधित करेंगे। कांग्रेस के पास अभी कर्नाटक ही सबसे बड़ा राज्य है और पार्टी सत्ता बचाने के लिए पूरी कोशिश रही है।

BJP Congress Prime Minister Narendra Modi
कुमार जीवेन्द्र झा Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned