मोदी का प्रदेश दौरा इस माह के अंतिम सप्ताह से

मोदी का प्रदेश दौरा इस माह के अंतिम सप्ताह से

Sanjay Kumar Kareer | Publish: Apr, 17 2018 01:14:07 AM (IST) Bangalore, Karnataka, India

कर्नाटक में नरेंद्र मोदी की बेहद मांग है और उनके दौरे कार्यक्रम को अंतिम रूप दिया जा रहा है

बेंगलूरु. भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव व प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनाव रैलियां इसी माह के अंत से शुरू होंगी जबकि राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मंगलवार से प्रदेश के दौरे पर आएंगे।

राव ने सोमवार को यहां बेंगलूरु प्रेस क्लब तथा बेंगलूरु रिपोर्टर्स गिल्ड के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित मातु-मंथना संवाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी की बेहद मांग है और उनका दौरा इसी माह के अंतिम सप्ताह से शुरू होगा लेकिन कार्यक्रम को अभी अंतिम रूप दिया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि पार्टी ने चुनाव घोषणा पत्र में समाज के सभी वर्ग व क्षेत्रों से जुड़े लोगों से राय ली है। इसमें सिंचाई, औद्योगिक विकास, आईटी-बीटी, शिक्षा, पर्यटन के अलावा विज्ञान व तकनीक के विकास पर प्रचुर बल दिया जाएगा।
त्रिशंकु जनादेश संबंधी चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों को खारिज करते हुए राव ने कहा कि विभिन्न चैनल सर्वेक्षणों में भाजपा की त्रिपुरा व उत्तर-पूर्व के अन्य राज्यों में हार दर्शाई थी लेकिन पार्टी ने वहां चुनाव जीत लिए।

कांग्रेस के कुशासन के कारण सत्ता में आएगी भाजपा : राव

राव ने कहा कि पिछले पांच वर्ष के दौरान सत्तारुढ़ कांग्रेस के कुशासन के कारण राज्य में कांग्रेस के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर है और यह भाजपा को आसानी से राज्य में पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापसी करने में मदद करेगा। भाजपा अपने लक्ष्य के अनुसार 150 सीट जीत कर सत्ता में वापसी करेगी। उन्होंने कहा कि कर्नाटक का चुनाव ऐतिहासिक होगा क्योंकि यह वर्ष-2014 की भांति ही वर्ष-2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा को दोबारा केंद्र की सत्ता में बनाए रखने के लिए एक आधार देगा।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या एक हताश आदमी बन चुके हैं क्योंकि उन्हें एहसास हो चुका है कि कांग्रेस इस चुनाव में हार जाएगी। पिछले एक साल में सिद्धरामय्या ने कई अवांछित चालें चली हैं जबकि वे पिछले चार साल तक इन मुद्दों पर चुप रहे। इसी क्रम में अब वे वीरशैव-लिंगायत समुदाय को विभाजित करने का प्रयास कर रहे हैं।

साम्प्रदायिक तत्वों को कांग्रेस का समर्थन

उन्होंने कहा कि जनता गुस्से में है क्योंकि कांग्रेस ने एसडीपीआई और पीएफआई जैसे सांप्रदायिक संगठनों से हाथ मिला लिया है जो राज्य में हिंदुओं के खिलाफ हिंसा और आतंक की घटनाओं में शामिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा इस तरह के तत्वों को समर्थन देना बेहद निराशाजनक है क्योंकि उन्होंने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत की उम्मीद खो दी है।


उन्होंने कहा कि राज नेता धर्मस्थलों का राजनीतिकरण कर रहे हैं। राव ने कहा कि अगर भाजपा राज्य में सत्तारूढ़ होती है तो वह धार्मिक संस्थानों को पूर्ण स्वायत्ता प्रदान करेगी और यह सुनिश्चित करेगी कि उनके संचालन में किसी प्रकार से सरकार की दखलंदाजी न हो।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned