समर्थन मूल्य पर मूंग की खरीद शुरू

समर्थन मूल्य पर मूंग की खरीद शुरू

Rajendra Shekhar Vyas | Publish: Sep, 04 2018 09:52:11 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

बिचौलियों की भरमार पर विधायक ने दिए कार्रवाई के निर्देश

धारवाड़. क्षेत्रीय विधायक अमृत देसाई ने कहा है कि केंद्र सरकार की समर्थन मूल्य योजना के तहत मूंग खरीदी केंद्र को पहले धारवाड़ कृषि उपज मंडी में आरम्भ किया गया है। इसमें किसी प्रकार से बिचौलियों की भरमार तथा गुणवत्ता के नाम पर किसानों की किरकिरी न हो इस बारे में अधिकारियों को सतर्कता बरतनी चाहिए। विधायक देसाई सोमवार को धारवाड़ कृषि उपज मंडी परिसर में वर्ष 2018-19 के समर्थन मूल्य योजना के तहत एफएक्यू गुणवत्ता के मूंग खरीदी केंद्र शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि फिलहाल बाजार में मूंग कम दाम में बिक रही है। समर्थन मूल्य योजना के तहत मूंग खरीदी को लेकर राज्य सरकार द्वारा सौंपे गए प्रस्ताव के तहत केंद्र सरकार ने प्रति क्विंटल मूंग उत्पाद को 6,975 रुपए में खरीदने के आदेश दिए हैं। इसके तहत धारवाड़ जिले के सभी तालुक समेत आठ केंद्रों में मूंग खरीदी केंद्र खोले गए हैं। धारवाड़ तालुक में 12 हजार 300 से अधिक हेक्टेयर जमीन पर मूंग उगाई गई है। उन्होंने कहा कि नेफेड संस्था, कृषि विभाग तथा कृषि उपज बिक्री विभाग की संयुक्त जिम्मेदारी से खरीदी कार्य चलना चाहिए। पूर्व में प्याज, चना, कपास, मूंगफली उत्पादों की खरीदी में सही जानकारी नहीं होने से उलझन पैदा हुई थी। इस स्थित में कुछ किसानों को अब तक समर्थन मूल्य का लाभ नहीं मिला है। अब मूंग खरीदी में यह गलती नहीं दोहरानी चाहिए। कृषि उपज मंडी प्रशासन मंडल के सदस्यों की मांग के तहत धारवाड़ कृषि उपज मंडी परिसर में पुलिस चौकी आरम्भ करने तथा खरीदी केंद्रों में पारदर्शिता रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाने के बारे में संबंधित अधिकारियों के साथ चर्चा कर कार्रवाई की जाएगी।
सांसद प्रहलाद जोशी ने कहा कि राज्य सरकार की मांग को शीघ्र स्वीकार कर समर्थन मूल्य पर मूंग खरीदी के लिए केंद्र सरकार ने आदेश जारी किया है। मूंग को खरीदी केंद्र में बेचने के तीन दिनों में किसानों को उनकी उपज की राशि पहुंचानी चाहिए। नेफेड संस्था के जरिए केंद्र सरकार को मूंग उत्पाद पहुंचने के 15 दिन में राज्य सरकार को यह राशि वापस आएगी। राज्य सरकार को इसके लिए तुरन्त परिक्रामी निधि स्थापित कर समय पर किसानों की मूंग उत्पाद खरीदी के लिए कार्रवाई करनी चाहिए। खरीदी में किसानों को गुणवत्ता बनाए रखने के लिए अधिकारियों की मदद करनी चाहिए। अधिकारियों को मानवता के साथ बर्ताव करना चाहिए। बिना कारण एफएक्यू तर्ज या फिर अन्य तकनीकी कारणों की आड़ में तकलीफ नहीं देनी चाहिए। किसानों से मूंग खरीदी की सीमा 10 क्विंटल से बढ़ाने के लिए राज्य सरकार की ओर से प्रस्ताव आने पर केंद्र सरकार के साथ चर्चा कर अनुमति प्राप्त की जाएगी।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे कृषि उपज मंडी के अध्यक्ष सिध्दप्पा प्याटी ने भी विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में तहसीलदार प्रकाश कुदरी, केएमएफ अध्यक्ष शंकर मुगद, बिक्री महामंडल के जिला प्रबंधक मल्लिकार्जुन समेत धारवाड़ कृषि उपज मंडी प्रशासन मंडल के सदस्य, किसान नेता उपस्थित थे। कृषि बिक्री विभाग के प्रभारी निदेशक वीएम लमाणी ने स्वागत कर कार्यक्रम का संचालन किया। धारवाड़ कृषि उपज मंडी के सचिव वी विजयकुमार ने आभार जताया।

Ad Block is Banned