लॉकडाउन जारी करने के प्रस्ताव का पूरजोर विरोध

दूसरा लॉकडाउन इस क्षेत्र के लिए घातक साबित होगा।

By: Sanjay Kulkarni

Updated: 11 Jul 2020, 11:42 AM IST

बेंगलूरु.कर्नाटक राज्य लघु उद्यम महासंघ (कासिया) ने राज्य में पुन: लॉकडाउन जारी करने के प्रस्ताव का पूरजोर विरोध किया है। महासंघ के अध्यक्ष के.बी.अरसप्पा ने मुख्यमंत्री बी.एस.यडियूरप्पा को लिखे खत में कहा है कि पहले लॉकडाउन से ही लघु उद्यम क्षेत्र नहीं उबरा है।ऐसे में दूसरा लॉकडाउन इस क्षेत्र के लिए घातक साबित होगा।अगर दुबारा लॉकडाउन घोषित किया जाता है।

तो राज्य के विभिन्न जिलों में स्थित लघु उद्यम इकाईयां बंद करने की नौबत आएगी। इसके परिणाम स्वरूप सैकड़ों युवा बेरोजगार होंगे।उसके पश्चात इस क्षेत्र को पुन: पटरी पर लाना संभव नहीं होगा।लिहाजा राज्य सरकार को किसी भी हालत में लॉकडाउन घोषित नहीं करना चाहिए।

अरसप्पा के मुताबिक इस बात को लेकर कोई दो राय नहीं हो सकती है कि राज्य सरकार को कोरोनो वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए वरियता देनी चाहिए लेकिन साथ में राज्य सरकार को लघु उद्यम क्षेत्र के भविष्य का भी ध्यान रखना होगा। लघु उद्यमी राज्य सरकार की ओर से घोषित सभी दिशा-निर्देशों का यथावत पालन करने के लिए तैयार है।

विधान परिषद के 15 सदस्यों की विदाई
बेंगलूरु.विधानसौधा के सम्मेलन सभागार में शुक्रवार को आयोजित समारोह में विधान परिषद के 15 सदस्य जिनका कार्यकाल जून माह में पुरा हो गया है। ऐसे सदस्यों को सम्मानित कर विदाई दी गई।इस समारोह में विधान परिषद के सभापति प्रतापचंद्र शेट्टी, सदन के नेता देवस्थान मंत्री कोटा श्रीनिवास पूजारी, नेता प्रतिपक्ष एसआर पाटिल उपस्थित थे।सभापति ने इन सदस्यों को स्मृतिचिन्ह देकर सम्मानित किया।
उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के एचएम रेवण्णा, डॉ जयमाला, आइवन डिसूजा, जयम्मा, शरणप्पा मट्टूर, एन.एस.बोसराजू, एमसी वेणूगोपाल, इकबाल अहमद सडरगी, तिप्पण्णा कमकनूर, अब्दूल जब्बार, जनता दल एस के टी.ए.सरवण, चौडरेड्डी तोपल्ली, निर्दलीय सदस्य डीयू मल्लिकार्जुन, भाजपा के एसवी सुंकनूर तथा हाल में भाजपा में शामिल पुट्टणा का छह वर्षों कार्यकाल जून माह में पूरा हो गया है।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned