नाराज सांसद ने कहा आलाकमान के फैसले से मानसिक परेशानी फिर भी फैसला मंजूर नामांकन वापस लिया

तुमकूरु के सांसद मुद्दहनुमेगौड़ा ने अंतत: आलाकमान और प्रदेश नेतृत्व के दबाव में अपना नामांकन पत्र वापस ले लिया।

By: Santosh kumar Pandey

Published: 29 Mar 2019, 07:57 PM IST

बेंगलूरु. तुमकूरु के सांसद मुद्दहनुमेगौड़ा ने अंतत: आलाकमान और प्रदेश नेतृत्व के दबाव में अपना नामांकन पत्र वापस ले लिया। उनके हटने से पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा की राह आसान हो गई।

मुद्दहनुमेगौड़ा ने शुक्रवार को सचिव रायसंद्रा रविकुमार को जिला निर्वाचन अधिकारी कार्यालय भेेजकर अपना नामांकन पर्चा वापस ले लिया। लेकिन, इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वे क्षेत्र से दूर रहेंगे और गठबंधन के प्रत्याशी एचडी देवगौड़ा के समर्थन में प्रचार नहीं करेंगे। सच्चाई यही है कि उन्हें कांग्रेस आलाकमान के फैसले से मानसिक परेशानी का सामना करना पड़ा है।

नामांकन पत्र वापस लेने से पहले वे बेंगलूरु में संजय नगर स्थित अपने निवास पर समर्थकों और कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मिले और इस संबंध में चर्चा की। सभी ने नामांकन वापस नहीं लेने का दबाव डाला था। इस बैठक के कुछ देर बाद कांग्रेस ही अध्यक्ष दिनेश गुंडूराव और उप मुख्यमंत्री डॉ. जी. परमेश्वर भी कुछ देर बाद वहां पहुुंंचे और नामाकंन वापस लेने का अनुरोध किया।

दिनेश गुंडूराव ने कहा कि भाजपा को सत्ता से दूर रखने के उद्देश्य से तुमकूरु सीट जनता दल-एस को दी है। हनुमेगौड़ा ने कहा कि कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धरामय्या और पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल ने फोन पर उनसे नामांकन वापस लेने का अनुरोध किया। कांग्रेस ने उन्हें निराश किया है।

उधर, मधुगिरी के पूर्व विधायक केएन राजण्णा ने भी अपना नामांकन पत्र वापस लेकर देवगौड़ा के समर्र्थन में प्रचार करने की घोषणा की।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned