मैसूरु दशहरा महोत्सव: महल पहुंचा हाथियों का पहला दस्ता

मैसूरु दशहरा महोत्सव: महल पहुंचा हाथियों का पहला दस्ता

Rajendra Shekhar Vyas | Publish: Sep, 06 2018 07:37:51 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

अर्जुन ने की पहली टोली के 6 हाथियों की अगुवाई

मैसूरु. दशहरा महोत्सव के लिए मैसूरु पहुंचे हाथियों के पहले जत्थे का बुधवार को मैसूरु महल परिसर में पारंपरिक और शाही अंदाज में स्वागत किया गया। पांच बार जम्बो सवारी की अगुवाई कर चुके अर्जुन के साथ छह हाथी महल परिसर के प्रसिद्ध जय मार्तण्ड द्वार पर पहुंचे। जिला प्रभारी मंत्री जीटी देवेगौड़ा सहित अन्य निर्वाचित प्रतिनिधियों की उपस्थिति में हाथियों का पारंपरिक स्वागत किया गया। इसके पूर्व महावत और सहायकों के साथ हाथियों ने अरण्य भवन से मैसूरु महल के लिए कूच किया।
जीटी देवेगौड़ा ने इस वर्ष के दशहरा का लोगो जारी किया और कहा कि कोडुग में आई प्राकृतिक आपदा के कारण राज्य सरकार ने दशहरा महोत्सव सादगी से मनाने का निर्णय लिया है। महोत्सव का शुभारंभ इंफोसिस फाउंडेशन की प्रमुख और लेखिका सुधा मूर्ति करेंगी। 10 अक्टूबर को चामुंडी हिल्स पर होने वाले उद्घाटन कार्यक्रम के लिए जल्द ही सुधा मूर्ति को आमंत्रित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हाथियों को दशहरा जुलूस के लिए प्रशिक्षित करने का काम अब शुरू हो जाएगा और बाद में दूसरे जत्थे में आने वाले छह हाथियों को भी प्रशिक्षित किया जाएगा, जो 19 अक्टूबर को विजयदशमी के दिन जम्बो सवारी के मुख्य आकर्षण होंगे। उन्होंने कहा कि विश्व प्रसिद्ध महोत्सव के सफल आयोजन के लिए उपसमितियों का गठन जल्द ही पूरा हो जाएगा।
दूसरे जत्थे में आएंगे छह हाथी
2 सितम्बर को वन शिविरों से मैसूरु के लिए हाथियों ने प्रयाण किया था और उसके साथ ही दशहरा महोत्सव की तैयारियां आधिकारिक रूप से शुरू हो गई थीं। पहले जत्थे में अर्जुन के अतिरिक्त वरलक्ष्मी, गोपी, विक्रम, धनंजय और चैत्रा शामिल हैं। दूसरे में बलराम, द्रोण और अभिमन्यु सहित छह अन्य हाथी शामिल होंगे, जिनके 15 सितम्बर तक मैसूरु पहुंचने की उम्मीद है।
नूतन भवन में प्रतिक्रमण की व्यवस्था
बेंगलूरु. अलसूर संघ की ओर से गुरुवार को पर्युषण पर्व से संवत्सरी महापर्व तक पुरुषों के लिए प्रतिक्रमण की व्यवस्था नूतन भवन गुरुमूर्ति स्ट्रीट के व्याख्यान हाल में रखी गई है।

Ad Block is Banned