स्कूली छात्रों के लिए अवसर, उपग्रह बनाएं, अंतरिक्ष में होगा लांच

8 वीं से 12 वीं के छात्रों के लिए मौका, लांच में शामिल भी हो सकेंगे छात्र, शिक्षक और अभिभावक

बेंगलूरु. इंजीनियरों की संस्था नेशनल डिजाइन रिसर्च फोरम (एनडीआरएफ) ने अपने स्वर्ण जयंती समारोह के अवसर पर स्कूली छात्रों के लिए राष्ट्रीय उपग्रह डिजाइन प्रतिस्पद्र्धा की घोषणा की है। इस प्रतिस्पद्र्धा के तहत 8 वीं से 12 वीं कक्षा के छात्र खुद अपनी डिजाइन किए गए उपग्रह पे-लोड अंतरिक्ष में भेज सकेंगे।
इसरो उपग्रह केेंद्र के पूर्व निदेशक और एनडीआरएफ के चेयरमैन एम.अन्नादुरै ने बताया कि 8 वीं से 12 वीं कक्षा के अधिकतम 5 छात्र एक टीम बनाकर इस प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। उन्हें एक ऐसा पे-लोड बनाने का प्रस्ताव रखना है जो अधिकतम 3.8 घन सेमी आकार का और 50 ग्राम वजनी हो। एनडीआरएफ 12 सफल टीमों का चयन उनके इनोवेटिव पे-लोड आइडिया के आधार पर करेगी। इसके बाद उन टीमों को आवश्यक तकनीकी मार्ग निर्देशन प्रदान किया जाएगा। छात्रों को 3 डी प्रिटेंड उपग्रह बॉडी नि:शुल्क उपलब्ध कराया जाएगा।
जिन टीमों का पे-लोड सर्वश्रेष्ठ होगा उन चयनित टीमों का पे-लोड चेन्नई से अंतरिक्ष में लांच किया जाएगा। जिन टीमों का उपग्रह लांच होगा उनके शिक्षक और अभिभावक लांच भी देख सकते हैं। इसे हीलियम बैलून से लांच किया जाएगा। यह उपग्रह अंतरिक्ष में 20 किमी ऊंचाई तक पहुंचेगा। उपग्रह इस तरह से डिजाइन किया जाएगा कि यह फिर से धरती पर सॉफ्ट लैंड करेगा और छात्रों के पे-लोड आंकड़ों के विश्लेषण के लिए निकाल लिए जाएंगे। इस प्रतिस्पद्र्धा में भाग लेने की अंतिम तिथि 25 नवम्बर है। प्रतिभागियों को पंजीकरण के लिए कोई शुल्क नहीं देना है। प्रतियोगिता का परिणाम 15 दिसम्बर 2019 को घोषित किया जाएगा और उपग्रह की लांचिंग 19 जनवरी 2020 को होगी।

Rajeev Mishra
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned