जरूरत परिवार के रिश्तों को मेंटेन करने की-साध्वी रिद्धिमा

धर्मसभा का आयोजन

By: Yogesh Sharma

Updated: 10 Sep 2021, 07:49 AM IST

बेंगलूरु. श्वेेतांबर स्थानकवासी जैन श्रावक संघ जयनगर में पर्युषण आराधना गतिमान है। साध्वी रिद्धिमा ने ‘रिलेशन बिल्ड’ विषय पर कहा कि हम हमारे रिश्तों के प्रति कितने सावधान हैं, कितने सजग हैं और रिश्तों को किस तरह हमने मेंटेन किया है, इस बात पर विचार करना होगा। हम घर मेंटेन करते हैं, गाड़ी मेंटेन करते हैं, मोबाइल मेंटेन करते हैं, कपड़े मेंटेन करते हैं, जूते,चप्पल मेंटेन करते हैं, रिश्तेदारी मेंटेन करते हैं, दोस्त मेंटेन करते हैं, मगर हमारा जो परिवार हैं उसके अंदर जो रिश्ते हैं, उनको कितना मेंटेन करते हैं। यह हम कभी सोच नहीं पाते। पैसा तो देते हैं, परंतु हम उनको समय नहीं दे पाते। अगर हमारे परिवार के लोग हमारी पीठ पीछे हमारी प्रशंसा करते हैं, हम पर विश्वास करते हैं, या हमारे लिए अच्छी बात करते हैं तो समझ जाना कि आपने आपके परिवार को मेंटेन किया है और अगर वह लोग आपको नहीं चाहते या आपके अलावा किसी और को पसंद करते हैं, तो वहां पर हमारे अंदर ही कोई न कोई कमी है, रिश्तों को मेंटेन करना है तो दो काम करने होंगे पहला समय देना होगा। दूसरा संस्कार देना होगा। संस्कार देने की लिए खुद से ही शुरुआत करनी होगी और कुछ नियम बनाकर उन्हें फॉलो करना होगा। हम अगर खुद फॉलो करेंगे तो हमारा परिवार खुद-ब-खुद उन नियम को स्वीकार करेगा और वैसा ही बन जाएगा जैसा हम बनाना चाहते हैं, हमारे प्रति उनका आदर रहेगा, मान सम्मान रहेगा, प्रेम प्यार रहेगा और हमारे प्रति उनका समर्पण रहेगा। अनेक युवक युवतियों के श्रावक श्राविकाओं की तपस्या चल रही है, साध्वी अरहाश्री के भी आज 9 उपवास हैं, आगे बढऩे के भाव हैं। मुमुक्षु निर्वानी जैन के आज 7 उपवास है, आगे बढऩे के भाव हैं। उसी के साथ आज की सभा में युवा जैन कॉन्फ्रेंस कर्नाटक के युवा लोगों ने सभा में भाग लिया। बेंगलूरु के सुश्रावक केसरीमल बुरड़ के पुत्र पारस बुरड़ भी पहुंचे। सभा में चिकपेट शाखा के अध्यक्ष गौतम चंद धारीवाल, विल्सन गार्डन, शांतिनगर, चिकपेट शाखा, वीवी पुरम आदि अनेक अनेक जगहों के श्रावक-श्राविकाओं ने पर्युषण पर्व की आराधना की।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned