नए कोविड अस्पताल को नहीं मिले चिकित्सक

- रेजिडेंट, पीजी और फैलोशिप विद्यार्थियों पर दारोमदार

By: Nikhil Kumar

Published: 26 Oct 2020, 08:40 PM IST

बेंगलूरु. इंफोसिस फाउंडेशन के सहयोग से शिवाजीनगर में सभी सुविधाओं से लैस कोविड-19 अस्पताल का निर्माण हुआ। मुख्यमंत्री बी. एस. येडियूरप्पा ने 26 अगस्त को ब्रॉड-वे रोड स्थित इस अस्पताल का उद्घाटन किया। 100 बिस्तर वाले इस अस्पताल के निर्माण में करीब चार माह लगे। लेकिन अस्पताल में गिनती के चिकित्सक हैं। चिकित्सकों व विशेषज्ञ चिकित्सकों की नियुक्ति के लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग ने जुलाई में ही आवेदन आमंत्रित किया था। लेकिन अब तक चिकित्सक नहीं मिले हैं। आवेदकों के अभाव में नियुक्ति प्रक्रिया लंबित है।

बेंगलूरु मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट (बीएमसीआरआइ) के रेजिडेंट चिकित्सक, स्नातकोत्तर (पीजी) के विद्यार्थी और फैलेशिप विद्यार्थी किसी तरह अस्पताल चला रहे हैं।

एमबीबीएस चिकित्सक, कार्डियोलॉजिस्ट, पल्मोनोलॉजिस्ट, अनेस्थेटिस्ट, रेडियोलॉजिस्ट, पैथोलॉजिस्ट, माइक्रोबायोलॉजिस्ट, फार्मेसिस्ट, क्रिटिकल देखभाल इकाई विशेषज्ञ आदि के 73 पदो पर नियुक्ति होनी है। लेकिन सुरक्षा गार्ड और नर्सिंग कर्मचारी को छोड़कर किसी की भी नियुक्ति नहीं हो सकी है।

बॉरिंग एंड लेडी कर्जन अस्पताल के डीन डॉ. मनोज कुमार ने बताया कि प्रतिमाह 1.2 लाख वेतन देने के बावजूद चिकित्सक दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं। मजबूरी में बीएमसीआरआइ से मदद लेनी पड़ी। 16 पीजी, 40 रेजिडेंट और 14 फैलोशिप विद्यार्थी अस्पताल चला रहे हैं।

केएआरडी खिलाफ
कर्नाटक रेजिडेंट चिकित्सक संघ (केएआरडी) ने चिकित्सा शिक्षा विभाग पर रेजीडेंट चिकित्सकों के साथ ज्यादती का आरोप लगाया है। केएआरडी परिधीय अस्पतालों में कोविड ड्यूटी के खिलाफ है।

बलि का बकरा बनाने के आरोप
केएआरडी के अध्यक्ष डॉ. रमेश एस. एम. ने कहा कि शिवाजीनगर स्थित कोविड अस्पताल के लिए 70 रेजीडेंट चिकित्सकों की मांग थी। विरोध के बाद 16 चिकित्सकों की ड्यूटी लगी। उन्होंने कहा कि करीब चार माह से अस्पताल शुरू करने की तैयारी हो रहर थी। बावजूद इसके प्रदेश सरकार और चिकित्सा शिक्षा विभाग ने नियुक्ति प्रक्रिया पर विशेष ध्यान नहीं दिया। बीएमसीआरआइ में पहले से ही चिकित्सकों की कमी है। यहां के रेजिडेंट चिकित्सक पहले से ही विक्टोरिया, बॉरिंग और राजीव गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ चेस्ट डिसीजेज में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। रेजिडेंट चिकित्सकों को बलि का बकरा बना दिया गया है।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned