scriptNIT-K made e-bike to monitor forests | जंगलों की निगरानी के लिए एनआइटी-के ने बनाई ई-बाइक | Patrika News

जंगलों की निगरानी के लिए एनआइटी-के ने बनाई ई-बाइक

- एक बार चार्ज होने पर चलेगी 75 किमी

बैंगलोर

Published: November 17, 2021 10:52:44 pm

बेंगलूरु. राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कर्नाटक (एनआइटी-के) ने एक ऐसी ई-बाइक बनाई है, जो जंगलों में आने-जाने के लिए सही मायने में पर्यावरण के अनुकूल है। जंगल में आग लगने की स्थिति में समय पर मौके पर पहुंचने में मदद मिलेगी। इस बाइक की विशेषता यह है कि इसकी बैटरी को सौर ऊर्जा का उपयोग करके चार्ज किया जा सकता है। इसमें जो हेडलाइट है उसे रात की निगरानी के लिए निकाला भी जा सकता है। इसकी इलेक्ट्रिक मोटर आवाज नहीं करती है। वन्यजीव परेशान नहीं होंगे। शिकारियों को चुपचाप पकडऩे में आसानी होगी।

जंगलों की निगरानी के लिए एनआइटी-के ने बनाई ई-बाइक

एनआइटी-के के सिस्टम डिजाइन केंद्र में ई-मोबिलिटी प्रोजेक्ट के प्रमुख पृथ्वीराज यू. ने बताया कि इसके फ्रंट यूटिलिटी बॉक्स का उपयोग वन अधिकारियों के सभी काम के सामान जैसे वॉकी-टॉकी, किताबें आदि रखने के लिए किया जा सकता है। वॉकी-टॉकी और मोबाइल फोन को चार्ज करने के लिए चार्जिंग डॉक भी है। रियर पैनियर बॉक्स का उपयोग अतिरिक्त सामान रखने के लिए किया जा सकता है। वन क्षेत्रों में शिकार-विरोधी शिविरों या वॉच टावरों में पानी और भोजन ले जाने का भी प्रावधान है।

उन्होंने बताया कि पार्क क्षेत्र का प्रबंधन करने वाले वन अधिकारियों की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए बाइक को कुद्रेमुख राष्ट्रीय उद्यान क्षेत्र में उपयोग के लिए विकसित किया गया है। पश्चिमी घाट में कुद्रेमुख वन्यजीव प्रभाग विशाल शोला वनों और महत्वपूर्ण वनस्पति जीवों का घर है।

एक बार फुल चार्ज होने के बाद यह उबड़-खाबड़ इलाकों में 75 किमी तक की दूरी तय कर सकता है। परियोजना दूसरे लॉकडाउन के दौरान शुरू हुई।

बाइक 'विद्ययुग 4.0' बीएलडीसी मोटर द्वारा संचालित है। यह 2.0 किलोवाट, 72 वोल्ट, 33 एएच लिथियम-आयन बैटरी द्वारा संचालित है। सौर चार्जिंग सेटअप में बैटरी चार्ज करने के लिए दो 400 वाट मोनो क्रिस्टलीय सौर पैनल और 1.5 किलोवाट यूपीएस इकाई शामिल है। विद्ययुग के मोटर को स्विच्ड अनिच्छा मोटर से बदलकर इसकी क्षमता बेहतर बनाने का विकल्प भी है।

कुद्रेमुख वन्यजीव प्रभाग के उप वन संरक्षक रूथरेन पी. ने कहा कि बाइक एनआइटी-के के दिमाग की उपज है। उवे इसके प्रदर्शन से खुश हैं। बुधवार को कुद्रेमुख में कुद्रेमुख वन्यजीव प्रभाग द्वारा आयोजित शोला वनों पर एक कार्यशाला के दौरान इस ई-बाइक का अनावरण किया जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहदुल्हन के लिबाज के साथ इलियाना डिक्रूज ने पहनी ऐसी चीज, जिसे देख सब हो गए हैरानकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेश

बड़ी खबरें

RRB-NTPC Results: प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले रेल मंत्री, रेलवे आपकी संपत्ति है, इसको संभालकर रखेंRepublic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवानहीं चाहिए अवार्ड! इन्होंने ठुकरा दिया पद्म सम्मान, जानिए क्या है वजहजिनका नाम सुनते ही थर-थर कांपते थे आतंकी, जानें कौन थे शहीद ASI बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रRepublic Day 2022: 'अमृत महोत्सव' के आलोक में सशक्त बने भारतीय गणतंत्रCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 7,498 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 10.59%डायबिटीज के पेशेंट्स के लिए फायदेमंद हैं ये सब्जियां, रोजाना करें इनका सेवनक्या दुर्घटना होने पर Self-driving Car जाएगी जेल या ड्राइवर को किया जाएगा Blame? कौन होगा जिम्मेदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.