साहित्य सम्मेलन आयोजन के लिए अनुदान की कमी नहीं

साहित्य सम्मेलन आयोजन के लिए अनुदान की कमी नहीं

Sanjay Kumar Kareer | Publish: Jan, 02 2019 06:45:28 PM (IST) | Updated: Jan, 02 2019 06:45:29 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

ऐतिहासिक मिसाल बने धारवाड़ का साहित्य सम्मेलन : देशपांडे

बेंगलूरु. राजस्व मंत्री आर.वी. देशपांडे ने साहित्य सम्मेलन के आयोजन के लिए अनुदान की कोई कमी नहीं है। लगभग 60 वर्ष बाद यह सम्मेलन धारवाड़ में आयोजित हो रहा है। साहित्य सम्मेलन केवल एक मेला नहीं होना चाहिए। इसको ऐतिहासिक मिसाल बनाने के लिए राज्य सरकार हरसंभव सहायता देने के लिए तैयार है।

धारवाड़ में मंगलवार को आयोजन स्थल का दौरा करने के पश्चात उन्होंने कहा कि आयोजन सूचारु हो, इसके लिए उन्होंने अभी तक धारवाड़ का 4-5 बार दौरा किया है। कन्नड़ साहित्य परिषद के पदाधिकारियों के साथ भी कई बार संवाद किया है। आयोजन के लिए गठित सभी समितियां अपना दायित्व निभा रही हैं। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि आयोजन के लिए अनुदान की कोई कमी नहीं है। जिलाधिकारी दीपा चोलन, कन्नड़ साहित्य परिषद के अध्यक्ष मनू बालिगार, विधायक प्रसाद अब्बय्या तथा धारवाड़ जिला कन्नड़ साहित्य परिषद के अध्यक्ष लिंगराज आंगड़ी उपस्थित थे।

आयोजन से इतर एक सवाल पर उन्होंने कहा कि भाजपा का पिछले दरवाजे से सत्ता हासिल करने का सपना साकार नहीं होने वाला है। भाजपा नेताओं को राज्य सरकार को अस्थिर करने के प्रयास छोड़ कर एक सक्षम विपक्ष की भूमिका निभानी चाहिए। लंबित हुब्बली-अंकोला रेल लाइन पर देशपांडे ने कहा कि यह योजना भूतपूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने शुरू की थी, वे शीघ्र ही इस योजना की बाधाएं दूर करने के लिए रेल मंत्री के साथ बातचीत करेंगे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned