अहिंसा सबसे बड़ा मंगल : साध्वी मंगलप्रज्ञा

  • तेरापंथ भवन में चातुर्मास प्रवेश

By: Santosh kumar Pandey

Published: 12 Jul 2021, 08:16 AM IST

मैसूरु. अग्रहार स्थित तेरापंथ भवन में साध्वी मंगलप्रज्ञा का चातुर्मासिक प्रवेश हुआ। साध्वी ने प्रवचन में कहा कि मानव जाति के लिए अहिंसा सबसे बड़ा मंगल है। भगवान महावीर का मंगल संदेश लेकर हमारा आगमन हुआ है। अहिंसा सबसे बड़ा मंगल है। चातुर्मास में आत्मविकास के लिए विशेष प्रयोग आवश्यक है। बंधन मुक्ति की दिशा में प्रस्थान करने का संकल्प हर व्यक्ति का होना चाहिए। विकास के लिए पंचम सूत्र है लक्ष्य का निर्धारण। हर सदस्य को एक लक्ष्य बनाना है कि हमें चातुर्मास में अपनी शक्ति का कैसे नियोजन करना है।

इसके पहले ज्ञानशाला के बच्चों ने भावपूर्ण मनमोहक प्रस्तुति दी। तेरापंथ सभा अध्यक्ष शातिलाल कटारिया,अणुव्रत सामिति के अध्यक्ष शांतिलाल नौलखा, तेरापंथ युवक परिषद अध्यक्ष दिनेश दक,महिला मंडल अध्यक्ष मंजु दक,गांधी नगर बेंगलूरु के सभा अध्यक्ष सुरेश दक, विजय नगर तेरापंथ सभा के उपाध्यक्ष राकेश दूधोडीया ने मंगल भावनाएं प्रस्तुत कीं।

अलका बेगानी और ज्ञानशाला प्रशिक्षिकाओं ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया।
साध्वी अणिमाश्री ने अपनी अनुजा मंगल प्रज्ञा के प्रति शुभकामना प्रेषित की जिसका वाचन चेन्नई के अशोक बोकडीया ने किया। सोनल पीपाड़ा ने गीत प्रस्तुत किया। साध्वी सिद्धियशा, साध्वी राजुल प्रभा, साध्वी चैतन्य प्रभा एवं साध्वी शौर्यप्रभा ने सामूहिक प्रस्तुति दी।
इस अवसर पर श्रीरंगपट्टण,एचडी कोटे,मंडया आदि क्षेत्रों से श्रावक उपस्थित रहे।

आदिनाथ जैन संघ अध्यक्ष रमेश श्रीश्रीमाल ने विचार व्यक्त किए। आदिश्वर वाटिका के मंत्री गौतम सालेचा,भोजराज जैन, मोहनलाल जैन,कांतिलाल जैन भी उपस्थित रहे। संचालन सुरेश पितलिया ने किया। तेरापंथ सभा के मंत्री अशोक दक ने आभार जताया।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned