scriptसाथ कुछ भी जाने वाला नहीं: आचार्य प्रसन्न सागर | Patrika News
बैंगलोर

साथ कुछ भी जाने वाला नहीं: आचार्य प्रसन्न सागर

संभवनाथ जैन भवन में प्रवचन

बैंगलोरMay 16, 2024 / 06:58 pm

Santosh kumar Pandey

digambar1111
बेंगलूरु. वीवीपुरम स्थित संभवनाथ जैन भवन में आचार्य प्रसन्न सागर ने तीसरे दिन शिविरार्थियों के समक्ष प्रवचन में कहा कि दीपक जलाने में पांच चीजें बाती, दीपक ,घी, माचिस और तेज हवा से रहित वातावरण चाहिए जबकि दीपक बुझने में एक मात्र फूंक लगाना ही पर्याप्त है। जीने के लिए पूरा ताम-झाम चाहिए।
मरने के लिए एक सांस का रुकना पर्याप्त है। तीन बातें सत्य हैं -इस जीव की मौत सुनिश्चित है , साथ कुछ भी जाने वाला नहीं है, जो जैसा करेगा, वो वैसा ही फल भोगेगा। माता – पिता, गुरु और धर्म इनके उपकारों से हम कभी उऋण नहीं हो सकते हैं । व्रत – उपवास , दान आदि आप नहीं कर सकते तो कोई बात नहीं , जो कर रहे हैं , तुम उनकी अनुमोदना जी खोल कर करो और परमात्मा से प्रार्थना करो कि हे परमात्मा ऐसी शक्ति मुझे भी देना । प्रवर्तक मुनि डॉ. सहज सागर ने भी विचार व्यक्त किए।

Hindi News/ Bangalore / साथ कुछ भी जाने वाला नहीं: आचार्य प्रसन्न सागर

ट्रेंडिंग वीडियो