scriptOne moment of sorrow is equal to one year - Acharya Devendrasagar | दु:ख का एक क्षण एक साल के बराबर होता है-आचार्य देवेन्द्रसागर | Patrika News

दु:ख का एक क्षण एक साल के बराबर होता है-आचार्य देवेन्द्रसागर

धर्मसभा का आयोजन

बैंगलोर

Updated: February 24, 2022 07:45:00 am

बेंगलूरु. बसवनगुड़ी में विराजित आचार्य देवेंद्रसागर सूरी ने कहा कि जीवन में होने वाले छोटे-मोटे परिवर्तनों से सुखी एवं संपन्न व्यक्ति तो इतने प्रभावित नहीं होते जितने की दुखी,क्योंकि कहा जाता है कि दु:ख का एक क्षण एक साल के बराबर होता है। उन्होंने कहा कि जीवन का दूसरा नाम ही समझौता है, समझौता नकारात्मक अर्थों में नहीं, अपितु सकारात्मक अर्थों में जिसका तात्पर्य है समझ एक ऐसी समझ जो सुख और दु:ख के मध्य सामंजस्य स्थापित कर सके क्योंकि जीवन उतार चढ़ाव का नाम है, जब कभी आपकी खुशी पीक पर होती है तो आप कभी ना समाप्त होने वाले संबंधों की अपेक्षा करते हैं और जब आप दुखी होते हैं तो एक क्षण जीना भी दूभर हो जाता है, हर ओर अंधेरा ही अंधेरा नजर आता है। वास्तव में हम सब मनुष्य हैं और पल-पल बदलने वाली भावनाओं से नियंत्रित होने वाले मन के साथ विचरण करते हैं मन की उथल-पुथल और भावनाओं के वशीभूत होकर सुख-दु:ख, सफलता असफलता, विश्वास अविश्वाश प्रेम कुंठा, क्रोध व ईष्र्या आदि के साथ जीवन पथ पर आगे बढ़ते रहते हैं और इस प्रकार नकारात्मक भावों में वृद्धि होती जाती है और हम तनिक पीड़ा से इतने व्याकुल हो जाते हैं की जीवन ही व्यर्थ लगने लगता है। सदैव उचित मार्ग का ही अनुसरण कीजिए, उचित मार्ग लंबा जरूर होता है परन्तु स्थाई परिणाम देने वाला होता है ,यद्यपि कई बार अत्यधिक सोच विचार कर और लम्बे रास्तों का अनुसरण करने के बाद भी उचित परिणाम प्राप्त नहीं होते, तो ऐसे में उन्हें भाग्य का लिखा मान कर स्वीकार कर लेने में और निरंतर सुधार का प्रयास करते रहने में ही संतुष्टि है। गलती सर्वसाधारण का एक सामान्य लक्षण है समस्त संसार में ऐसा कोई मनुष्य नहीं जिससे कभी कोई भूल ना हुई हो भूल को सुधार के आगे बढ़िए क्योंकि चलते रहना ही प्रकृति का नियम है। अंत में आचार्य ने कहा कि परिस्थिति खराब हो सकती है जीवन नहीं क्योंकि परिस्थिति तो जीवन का एक क्षण मात्र होता हे याद कीजिए ऐसी कितनी ही परिस्थितियों पर विजय पाकर आप जीवन के मार्ग में आगे बढ़े हैं इसलिए चलते रहिए बढ़ते रहिए।
दु:ख का एक क्षण एक साल के बराबर होता है-आचार्य देवेन्द्रसागर
दु:ख का एक क्षण एक साल के बराबर होता है-आचार्य देवेन्द्रसागर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

हरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाWeather Update: उत्तर भारत में भीषण गर्मी, इन राज्यों में आंधी और बारिश की अलर्टबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनगेहूं के निर्यात पर बैन पर भारत के समर्थन में आया चीन, G7 देशों को दिया करारा जवाबLIC IPO : एलआईसी आईपीओ आज होगा सूचीबद्ध, इतने रुपए पर होगी लिस्टिंगमध्यप्रदेश: दो समुदायों में तनाव के बाद देर रात नीमच सिटी में धारा 144 लागू'हिन्दी' बॉक्स ऑफिस पर 'बादशाहत': दक्षिण की फिल्मों का धमाल बॉलीवुड के लिए कड़ी चुनौती
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.