परम्परागत तरीके से माता को विदाई

परम्परागत तरीके से माता को विदाई
परम्परागत तरीके से माता को विदाई

Yogesh Sharma | Updated: 09 Oct 2019, 04:20:28 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

नौ दिन चले गरबा रास का समापन

केजीएफ. नवरात्र महोत्सव के समापन पर मंगलवार देर रात तक युवक-युवतियां डांडिया एवंं गरबा पर झूमते रहे। बुधवार को माता को विदाई दी।

राजस्थानी विष्णु समाज नवयुवक मंडल एवंं गजानंद राजस्थानी सेवा ट्रस्ट की ओर से माताजी को छप्पनभोग अर्पण हुआ एवं रात्रि जागरण में भजनों की रसधार बही। नवरात्र के दौरान प्रतिदिन महिला भक्ति संध्या, पूजा और प्रसाद वितरण और महामंगलआरती का कार्यक्रम हुआ।

गोमाता पूजन, ललिता सहस्त्रनाम हवन, गणपति हवन नवग्रह हवन, सुमंगली हवन महा मृत्युंजय हवन हुआ। प्रतिदिन रात्रि में डांडिया, गरबा व राजस्थानी लोक नृत्य घूमर, राजस्थानी गैर नृत्य का आयोजन हुआ।
विसर्जन कार्यक्रम में सुरेश सेन,सोहनलाल सेन, रमेश सेन, जगदीश सेन, सुरेश प्रजापत, श्यामलाल, सुगन चंद, अमराराम, कमलेश उपस्थित रहे। गजाराम सीरवी के नेतृत्व में वी. कोटा कलाकारों ने राजस्थानी पारंपरिक वेशभूषा में गैर नृत्य की सुंदर प्रस्तुति दी। बुधवार को केजीएफ की मुख्य सड़कों शोभायात्रा निकालकर माता को परम्परागत तरीके से विदाई दी।

नवरात्र महोत्सव के दौरान प्रति दिन अनेक सांस्कृतिक व धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। इसमें क्षेत्रवासियों ने माता की आराधना की।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned