दाखिले को लेकर असमंजस में स्कूल और अभिभावक

- पंजीकरण और कैंपस वर्चुअल टूर जारी

By: Nikhil Kumar

Published: 16 Dec 2020, 11:27 PM IST

बेंगलूरु. कोरोना महामारी के बाद से बंद पड़े तकरीबन सभी बजट स्कूलों ने शैक्षणिक वर्ष 2021-22 के लिए दाखिला प्रक्रिया शुरू नहीं की है। स्कूल खुलने की तिथि को लेकर स्कूल संचालक और अभिभावक असमंजस में हैं। कुछ स्कूलों ने पंजीकरण प्रक्रिया शुरू की है लेकिन अभिभावक अभी इंतजार करना चाहते हैं। कई अभिभावकों की आर्थिक स्थिति खराब है।

कभी रहती थी मारामारी
स्कूल संचालकों के अनुसार आम वर्षों में दिसंबर तक दाखिला प्रक्रिया समाप्त हो जाती है। कई बड़े स्कूल बच्चों व अभिभावकों को ऑनलाइन कैंपस टूर करा रहे हैं। अभिभावक ऑनलाइन ही स्कूल कैंपस का दौरा कर रहे हैं लेकिन फिलहाल दाखिले से बच रहे हैं। कभी इन्हीं स्कूलों में दाखिले के लिए सबसे ज्यादा मारामारी रहती थी।

इस बार कुछ भी स्पष्ट नहीं
मान्यता प्राप्त गैर अनुदानित निजी स्कूल के प्रदेश अध्यक्ष लोकेश टी. ने बताया कि इस बार कुछ भी स्पष्ट नहीं है। इसलिए ज्यादातर स्कूल दाखिला प्रक्रिया शुरू नहीं कर सके हैं। सबसे पहले किंडरगार्टेन और कक्षा एक में दाखिला देते हैं लेकिन निकट भविष्य में स्कूल फिर से खुल भी जाए तो इन बच्चों का नंबर सबसे बाद में आएगा। वैक्सीन को लेकर भी कोई ठोस जानकारी नहीं है।
एक अन्य स्कूल के प्रधानाध्यापक ने बताया कि दाखिला प्रक्रिया शुरू नहीं कर सके हैं। लेकिन पंजीकरण प्रक्रिया जारी है। ताकि अभिभावकों को स्कूल व दाखिला संबंधित पर्याप्त जानकारी मिल सके।

घटी इन्क्वायरी
दिल्ली पब्लिक स्कूल समूह के प्रबंधन बोर्ड के सदस्य मंसूर अली खान ने बताया कि इस बार पूछताछ के लिए स्कूल पहुंचने वाले अभिभावकों की संख्या 30 फीसदी तक घटी है। लेकिन वर्चुअल कैंपस टूर जारी है। कई अभिभावक अब भी घर से काम कर रहे हैं और बच्चों को घरों से बाहर नहीं भेजना चाहते हैं। नर्सरी, एलकेजी और यूकेजी के बच्चों के अभिभावक कोरोना महामारी से उत्पन्न स्थिति पर निगरानी बनाए हुए हैं और ज्यादातर अभिभावक फिलहाल दाखिले के बारे में सोच भी नहीं रहे हैं।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned