scriptPatients infected with Omicron variant to be treated in a special ward | ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित मरीजों का विशेष वार्ड में होगा उपचार | Patrika News

ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित मरीजों का विशेष वार्ड में होगा उपचार

- कर्नाटक में विदेशी यात्रियों की कोविड जांच शुरू

बैंगलोर

Published: December 02, 2021 12:36:48 pm

बेंगलूरु. विदेशों से कर्नाटक पहुंचने वाले सभी यात्रियों की आरटी-पीसीआर जांच बुधवार से शुरू हो गई। रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही यात्री घर जा सकेंगे। लेकिन एक सप्ताह तक होम क्वारंटाइन रहना पड़ेगा। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग सभी के स्वास्थ्य पर निगरानी रखेगा।
ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित मरीजों का विशेष वार्ड में होगा उपचार
ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित मरीजों का विशेष वार्ड में होगा उपचार
स्वास्थ्य व चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. के. सुधाकर ने बुधवार को कहा कि लक्षण के बावजूद जांच में निगेटिव निकलने वाले यात्रियों की पांचवें दिन जांच होगी। सात दिन के बाद रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही संबंधित यात्री क्वारंटाइन से बाहर निकल सकेंगे। जांच में कोविड की पुष्टि वाले मरीजों को अस्पताल में भर्ती किया जाएगा। यात्रियों को कुछ देरी का सामना करना पड़ सकता है। जांच अनिवार्य है।
मंत्री ने कहा कि अगर ओमिक्रॉन वैरिएंट का पता चलता है, तो उनका इलाज अस्पतालों के विशेष आइसोलेशन वार्ड में किया जाएगा। सरकार ने अस्पताल और मेडिकल कॉलेजों के साथ बातचीत की है। स्वास्थ्य विभाग ने इस संबंध में उपाय सुझाने के लिए पहले ही जिला अधिकारियों के साथ एक बैठक बुलाई है।

बूस्टर डोज पर केंद्र से बातचीत जारी
डॉ. सुधाकर ने बताया कि गुरुवार या शुक्रवार को मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई दिल्ली में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से मिलेंगे और स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों और फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं के लिए बूस्टर खुराक के बारे में चर्चा करेंगे। बूस्टर खुराक देने के फायदे और अन्य कारकों पर भी चर्चा होगी।

सहयोग, जागरूकता और सतर्कता जरूरी
उन्होंने कहा कि टेली-मेडिसिन सुविधाओं को पहले से ज्यादा प्रभावी बनाया जाएगा। टेस्टिंग बढ़ाई जाएगी। मास्क सहित और अन्य सुरक्षा दिशा-निर्देशों को सख्ती से लागू किया जाएगा। यदि जनता सरकार का सहयोग करे तो कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीती जा सकती है। ओमिक्रॉन वैरिएंट पर काबू पाने के लिए जागरूकता और सतर्कता जरूरी है।

टीका नहीं लगवाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मंशा नहीं
कोविड तकनीकी सलाहकार समिति ने सरकार को सलाह दी है कि अवधि पार होने के बावजूद कोरोना टीके की दूसरी खुराक नहीं लेने वालों को दंडित किया जाए और ऐसे लोग अगर संक्रमित होते हैं तो इन्हें सरकारी सुविधाओं का लाभ नहीं दिया जाए। लेकिन सरकार की ऐसी कोई मंशा नहीं है। सरकार ऐसे लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करेगी। पिछले दो दिनों में वैक्सीन लेने वालों की संख्या बढ़ी है। घर-घर वैक्सीन मित्र कार्यक्रम जोर पकड़ रहा है।

बच्चों पर ओमिक्रॉन वैरिएंट के प्रभाव को लेकर स्पष्टता नहीं
उन्होंने कहा कि अभी तक बच्चों पर ओमिक्रॉन वैरिएंट के प्रभाव को लेकर स्पष्टता नहीं है। लेकिन यह बहुत तेजी से फैलने वाला वायरस है। केंद्र सरकार भी चाइल्ड वैक्सीन पर विचार कर रही है। वैक्सीन के जल्द से जल्द सभी राज्यों में उपलब्ध होने की उम्मीद है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: परम विशिष्ट सेवा मेडल के बाद नीरज चोपड़ा को पद्मश्री, देवेंद्र झाझरिया को पद्म भूषणRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीAloe Vera Juice: खाली पेट एलोवेरा जूस पीने से मिलते हैं गजब के फायदेगणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर, जानिए इसके बारे मेंRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस परेड में हरियाणा की झांकी का हिस्सा रहेंगे, स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.