बेंगलूरु. पंद्रहवीं शताब्दी में कर्नाटक के जनजीवन पर गहरा प्रभाव डालनेवाले महान दार्शनिक व संगीतकार संत कनकदास की जयंती राज्य के विभिन्न हिस्सों में मनाई गई। इस मौके पर राजधानी बेंगलूरु व मैसूरु में विभिन्न संास्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। तस्वीरों में देखें नजारे।

[MORE_ADVERTISE1][MORE_ADVERTISE2]
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned