पुलिस ने मारा छापा, लाखों की नकदी के साथ कई तलवारें व खंजर जब्त

प्रतिमा स्थापना के समय हिंसा फैलाने का आरोप

By: Santosh kumar Pandey

Published: 05 Sep 2020, 02:15 PM IST

बेंगलूरु. बेलगावी पुलिस ने खतरनाक गोकाक टाइगर गिरोह के सदस्यों के निवास और अन्य ठिकानों पर छापे मार कर नकद ३०.४८ लाख रुपए, मादक पदार्थ, दो पिस्तौल और २० कारतूस के अलावा अन्य चीजें जब्त की हैं। इस गिरोह ने कई अपराधिक गतिविधियों को अंजाम देकर जिले के लोगों में दहशत फैला रखी थी। इसी गिरोह ने दो प्रतिमाएं स्थापित करने के विवाद के समय हिंसा फैलाने का प्रयास किया था।

गृह मंत्री बसवराज बोम्मई ने पुलिस को कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। उसके बाद पुलिस अधीक्षक लक्ष्मण निंबारगी के नेतृत्व में एक विशष दल गठित किया गया था। इस दल ने न्यायालय से सर्च वारंट लेकर गिरोह के सदस्यों के निवास और दूसरे ठिकानों पर छापे मार कर नकद 30.48 लाख रुपए, दो पिस्तौल, 20 कारतूत, सात तलवारें, खंजर, भाले, 22 मोबाइल, चार सिम कार्ड, 11 बंैक पास बुक, 12 संपत्तियों के दस्तावेज, 15 संपत्तियों से संंंबंधित जेराक्स दस्तावेज, चार खाली चेक, कई मतदाता पहचान कार्ड, दो एटीएम कार्ड तथा अन्य चीजों को जब्त किया।
गिरोह के सदस्य उनके खिलाफ दर्ज मामलों से संबंधित गवाहों को डरा धमका कर या रुपयों का लालच देकर शिकायतें वापस लेने के लिए जबर्दस्ती करते थे। इसके अलावा सबूत मिटाने में माहिर थे।

गिरोह के सदस्यों के खिलाफ कर्नाटक संगठित अपराध नियंत्रण 2000 (कोका) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है। इस गिरोह के खिलाफ कार्रवाई करने पुलिस महा निरीक्षक (उत्तर क्षेत्र) एच.जी.राघवन्द्र सुहास ने विशेष दल गठित किया था।

गिरोह के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास, डकैती, लूट, अपहरण समेत कई अपराधिक मामले दर्ज हैं। गिरोह के सदस्यों ने चार माह पहले एक दलित नेता सिद्दप्पा कनामड्डी की हत्या की थी। इस मामले में गंगाराम शिंदे (26), विनायक (22), विट्ठल परशुराम (28), विनोद (22), करन विजय (22), बसवा जाधव (36), सुनील (43) और संतोष पाडुरंगा (21) को गिरफ्तार किया।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned