नए स्कूलों को अनुमति नहीं देने के बयान से निजी स्कूल संघ खफा

Shankar Sharma

Publish: Jun, 15 2018 05:11:24 AM (IST)

Bangalore, Karnataka, India
नए स्कूलों को अनुमति नहीं देने के बयान से निजी स्कूल संघ खफा

आइसीएसइ स्कूल प्रबंधन संघ व राज्य स्तरीय सीबीएइ स्कूल प्रबंधन संघ ने सार्वजनिक विद्यालयों के आसपास अगले तीन वर्षों तक नए निजी स्कूलों की स्थापना की अनुमति नहीं देने के सरकारी बयान का विरोध किया है।

बेंगलूरु. कर्नाटक एसोसिएटेड मैनेजमेंट ऑफ इंग्लिश मीडियम स्कूल्स (केएएमएस), आइसीएसइ स्कूल प्रबंधन संघ व राज्य स्तरीय सीबीएइ स्कूल प्रबंधन संघ ने सार्वजनिक विद्यालयों के आसपास अगले तीन वर्षों तक नए निजी स्कूलों की स्थापना की अनुमति नहीं देने के सरकारी बयान का विरोध किया है।

ऐसा होने की स्थिति में न्यायालय जाने की चेतावनी दी है। प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा मंत्री एन. महेश ने कुछ दिन पहले अपने बयान में नए निजी स्कूलों को अनुमति नहीं देने पर विचार करने की बात कही थी। प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा विभाग के पास नए स्कूल खोलने के संबंध में २४२९ से भी ज्यादा आवेदन लंबित हैं। इन पर नामंजूरी का खतरा मंडरा रहा है। हालांकि सरकार ने इस पर अब तक कोई निर्णय नहीं लिया है।


केएएमएस के महासचिव डी. शशिकुमार ने गुरुवार को कहा कि प्रदेश सरकार का मानना है कि निजी स्कूलों के कारण सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या घटी है। शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत भी इस बार सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या में कमी आई है।

सरकारी स्कूलों की हालत के लिए निजी स्कूलों को जिम्मेदार ठहरा कर सरकार अपनी जिम्मेदारियों से भाग रही है। शशिकुमार ने कहा कि उन्होंने शिक्षा मंत्री सहित प्राथमिक व माध्यमिक विभाग की प्रधान सचिव डॉ. शालिनी रजनीश को भी पत्र लिख कर स्थिति स्पष्ट करने की मांग की है। पत्र में कहा है कि सरकारी अधिसूचना के बाद ही लोगों ने निजी स्कूल शुरू करने के लिए आवेदन किया था।


सार्वजनिक शिक्षा विभाग ने २६ मार्च को सूचना जारी कर नए स्कूलों के लिए आवेदन आमंत्रित किया था।
सरकार अब अनुमति नहीं देने की बात कर रही है। ऐसा हुआ तो विभिन्न निजी स्कूल संघ न्यायालय जाने पर मजबूर हो जाएंगे। पूर्व प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा मंत्री तनवीर सेत ने भी घोषणा की थी अगले पांच वर्षों तक नए निजी स्कूल खोलने की अनुमति नहीं देंगे, लेकिन निजी स्कूल संघों के दबाव के आगे यह दावा टिक न सका था।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned