scriptपानी की कमी से बढ़ सकते हैं उत्पाद के दाम | Product prices may increase due to water shortage | Patrika News
बैंगलोर

पानी की कमी से बढ़ सकते हैं उत्पाद के दाम

उद्योगों को नहीं मिल रहा जरूरत जितना पानीमहंगे दामों में खरीदना पड़ रहा टैंकरों का पानी

बैंगलोरMar 24, 2024 / 05:57 pm

Yogesh Sharma

पानी की कमी से बढ़ सकते हैं उत्पाद के दाम

पानी की कमी से बढ़ सकते हैं उत्पाद के दाम

बेंगलूरु. गत वर्ष हुई कम बारिश का असर ये है कि प्रदेश के अधिकांश ट्यूबवैल सूख गए है और नदियों का जल स्तर बहुत नीचे चला गया है। इसके चलते प्रदेश में जल संकट गहरा गया है। हाल ये है कि जहां उपभोक्ताओं को जरूरत जितना भी पानी नहीं मिल रहा है। वहीं उद्योगों को टैंकरों से पानी खरीदकर अपना काम चलाना पड़ रहा है। इसके चलते उत्पादन लागत में इजाफा हो रहा है, जिससे उत्पाद की कीमतें बढऩे से इनकार नहीं किया जा सकता है।
फैडरेशन ऑफ चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (एफकेसीसीआई) के अध्यक्ष रमेशचंद लाहोटी ने ‘पत्रिका’ को बताया कि पानी की कमी होने से लोगों को पानी का मोल पता चल रहा है। पानी की कमी मार्च से जून तक रहेगी। उन्होंने कहा कि घरों में जलापूर्ति करना और उद्योगों को पानी देने की जिम्मेदारी सरकार की है। उन्होंने राज्य सरकार से आग्रह किया है कि वह जलापूर्ति करने वाले विभागों की सरकार निरंतर मॉनिटरिंग करे। उन्होंने कहा कि सरकार ने पानी के टैंकरों की जो दरें तय की हैं, वह उद्योगों के लिए सही नहीं हैं। इससे उद्योगों में उत्पादन लागत में इजाफा होगा। इसका असर ये होगा की उत्पाद की लागत बढ़ जाएगी। इसका सीधा असर आम उपभोक्ता पर पड़ेगा।लाहोटी ने बताया कि प्रदेश में साढ़े छह लाख माइक्रो, स्मॉल, मीडियम इन्टरप्राइजेज (एमएसएमई) हैं। इनमें से करीब १५ प्रतिशत उद्योग जल आधारित हैं। महंगा पानी खरीदकर उपयोग करने से उत्पादन लागत दो प्रतिशत बढ़ रही है जिसका सीधा असर उपभोक्ताओं पर पड़ेगा। उन्होंने उम्मीद जताई है कि मई-जून में अच्छी बारिश हो जाएगी तो ही कुछ राहत मिल सकती है। उन्होंने कहा कि मई-जून में पेयजल समस्या न हो इसके लिए मुख्यमंत्री को अभी से मास्टर प्लान बनाकर कार्य करना होगा।
उन्होंने कहा कि कम बारिश के चलते अधिकांश उद्योगों के टयूबवैल सूख गए हैं। कई उद्योग पानी की रिसाइक्लिंग भी कर रहे हैं। इसके बावजूद उद्योगों को बाहर से पानी के टैंकर का पानी खरीदना पड़ रहा है। जो पानी नल के जरिए आ रहा है वह केवल पेयजल की खपत को ही पूरा कर पा रहा है। उस पानी से अन्य कार्य नहीं किए जा सकते हैं। उन्होंने उत्पाद लागत नहीं बढ़े इसके लिए सरकार से उद्योगों को रियायती दामों पर पानी के टैंकर उपलब्ध कराने का आग्रह किया है।

Hindi News/ Bangalore / पानी की कमी से बढ़ सकते हैं उत्पाद के दाम

ट्रेंडिंग वीडियो