प्रवर्तक पन्नालाल स्वाध्याय के प्रबल प्रेरक थे - डॉ. कुमुदलता

धर्मसभा

By: Yogesh Sharma

Published: 10 Sep 2021, 08:09 AM IST

बेंगलूरु. स्थानकवासी जैन संघ कोयंबत्तूर में विराजित साध्वी डॉ. कुमुदलता आदि ठाणा चार के सान्निध्य में स्वाध्याय संघ के प्रणेता प्रवर्तक पन्नालाल की 134 वीं जयंती सामूहिक एकासन व दया दिवस के रूप में मनाई गई।
इस अवसर पर साध्वी ने प्रवर्तक पन्नालाल के जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि प्रवर्तक स्वाध्याय के प्रबल प्रेरक थे। उनकी प्रेरणा से ही भारत में सर्वप्रथम स्वाध्याय संघ की स्थापना हुई। स्वाध्यायी श्रावक-श्राविका आज जिन स्थानों पर चातुर्मास नहीं होता है। साधु साध्वी का सुयोग नहीं होता है। वहां पर जाकर पर्युषण के दिनों में 8 दिन धर्म आराधना करवाते हैं। स्वाध्याय का कार्य सर्वप्रथम प्रवर्तक श्रीजी ने प्रारंभ किया जो आज दिन तक निरंतर गतिमान है। सैकड़ों स्वाध्याय साधक विभिन्न स्थानों पर जाकर धर्म आराधना करवाते हैं। डॉ.कुमुदलता ने कहा कि प्रवर्तक धीर वीर गम्भीर थे। जितनी प्रशंसा की जाए, जितने गुणगान किए जाएं उतने कम हैं। समारोह के लाभार्थी सुगनीबाई, पुखराज, विमल प्रकाश, राजकुमार, आनंदकुमार, संजय, गौरव, अरिहंत, सौरभ, मयंक, तनु, आर्चित श्रीश्रीमाल रहे।

एफकेटीए के शिविर में 360 ने कराया टीकाकरण
अब तक 9 कोरोना टीकाकरण शिविर लग चुके हैं
बेंगलूरु. फेडरेशन ऑफ कर्नाटक ट्रेडर्स एसोसिएशन की ओर से गोडवाड़ भवन में 9वां नि:शुल्क कोरोना टीकाकरण शिविर का आयोजन किया गया।
ऑटोमोबाइल स्पेयर पार्ट्स, कार एक्सेसरीज फिटर, स्टेनलेस स्टील, टूर ऑपरेटर स्टाफ, घडिय़ां, स्विचगियर निर्माता और विक्रेता संघों के 360 व्यापारियों, व्यापारियों, कर्मचारियों और श्रमिकों को टीका लगवाया। इस अवसर पर एफकेटीए के अध्यक्ष प्रकाश मांडोत, गोडवाड़ भवन के सचिव कुमारपाल सिसोदिया, गौतम मेहता, कोविड चिकित्सा अधिकारी डॉ. मेघराज और डॉ.अरुण सहित अनेक लोग उपस्थित थे।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned