जनता तक पहुंचे सरकारी सुविधाएं

जनता तक पहुंचे सरकारी सुविधाएं

Shankar Sharma | Publish: Sep, 07 2018 10:13:42 PM (IST) Bangalore, Karnataka, India

विधायक अमृत देसाई ने कहा है कि सरकार की ओर से जारी की जाने वाली योजनाएं व सुविधाओं को सीधे जनता तक पहुंचाने का कार्य होना चाहिए। देसाई, धारवाड़ तालुक के गरग राजस्व केन्द्र स्तरीय जनसंपर्क तथा पेंशन अदालत कार्यक्रम का गुरुवार को उद्घाटन कर बोल रहे थे।

धारवाड़. विधायक अमृत देसाई ने कहा है कि सरकार की ओर से जारी की जाने वाली योजनाएं व सुविधाओं को सीधे जनता तक पहुंचाने का कार्य होना चाहिए। देसाई, धारवाड़ तालुक के गरग राजस्व केन्द्र स्तरीय जनसंपर्क तथा पेंशन अदालत कार्यक्रम का गुरुवार को उद्घाटन कर बोल रहे थे।


उन्होंने कहा कि आमजन के खुशहाल जीवन तथा संपूर्ण विकास के लिए सरकार ने विभिन्न विभागों की ओर से कई कल्याण कार्यक्रमों को लागू किया है। इनके नियमित कार्यन्वयन के लिए स्थानीय अधिकारियों को कार्य करनी चाहिए। जरूरतमंदों तक सरकार की सुविधाएं पहुंचाने का कार्य होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि प्रति माह एक राजस्व केन्द्र में जनसंपर्क सभा आयोजित कर लोगों की समस्याओं को सुना जाएगा और वहीं तुरन्त समस्याओं का समाधान करने का प्रयास किया जाएगा। इस दिशा में मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी, जिला पंचायत सीईओ तथा उप विभागाधिकारी को निर्देश दिए हैं।

प्रशासन को जनता के पास ले जाना तथा उनकी समस्याओं का समाधान करना ही जनसंपर्क सभा का मुख्य उद्देश्य है। इन सभाओं में सभी अधिकारियों को भाग लेना चाहिए। इस दिशा में उप विभागाधिकारी तथा तहसीलदार की ओर से कार्रवाई करनी चाहिए। अधिकारियों को सभा में सक्रीय रूप से भाग लेकर लोगों की मदद करनी चाहिए।इस मौके पर हालही में हुई भारी बारिश से क्षतिग्रस्त मकान मालिक शिंगनहल्ली गांव की शारदा बारिगिडद, चन्नव्वा तिगडी तथा उमेश उप्पार को मुआवजे चेक वितरित किया गया।

उप विभागीय अधिकारी मुहम्मद जुबेर ने लोगों की समस्याएं स्वीकार कर मुआवजे की घोषणा की। गरग ग्राम पंचायत अध्यक्ष यल्लप्पा बोरिमनी, प्रोबेशनरी विभागीय अधिकारी जी.डी. शेखर और पार्वती रेड्डी, तहसीलदार प्रकाश कुदरी, तालुक पंचायत कार्यकारी अधिकारी एस.एस. काद्रोल्ली, जिला पंचायत पूर्व सदस्य तवनप्पा अष्टगी, अजय आई, इरण्णा पार्शी आदि उपस्थित थे।

शांति और क्षमा का पर्व है पर्युषण
बेंगलूरु. सीमंधर शांतिसूरी जैन ट्रस्ट, वीवीपुरम के तत्वावधान में आचार्य चंद्रभूषण सूरीश्वर ने कहा कि पर्युषण पर्व शांति एवं क्षमा का पर्व है। उन्होंने कहा कि सालभर में हुए छोटे से छोटे जीव के साथ मन, वचन एवं काया द्वारा खराब एवं दुख वर्तन की क्षमा मांगने का अनमोल पर्व पर्युषण पर्व है। रिश्तों में बनने वाली दरारें पूरने के लिए यह पर्व है। इस पर्व को प्राप्त कर अपने मन में रही द्वेष, तिरस्कार एवं क्रोध की गांठों को पिघलाने की क्रिया करनी है।

Ad Block is Banned