रैगिंग का आरोप : एमबीबीएस के पांच छात्र गिरफ्तार

राजाजीनगर पुलिस ने शहर के एक सरकारी मेडिकल कॉलेज के पांच छात्रों को रैगिंग के आरोप में गिरफ्तार किया है। पांचों एमबीबीएस के विद्यार्थी हैं।

By: Ram Naresh Gautam

Published: 30 Dec 2018, 06:44 PM IST

बेंगलूरु. राजाजीनगर पुलिस ने शहर के एक सरकारी मेडिकल कॉलेज के पांच छात्रों को रैगिंग के आरोप में गिरफ्तार किया है। पांचों एमबीबीएस के विद्यार्थी हैं। सभी पर अनुसूचित जाति समुदाय के एक नए छात्र को रैगिंग के नाम पर प्रताडि़त करने का आरोप है। पुलिस के अनुसार पांचों ने रैगिंग की बात कबूली है। सीसीटीवी कैमरे के फुटेज में भी छात्रावास में रैगिंग की बात सामने आई है। पीडि़त की शिकायत पर पुलिस ने कार्रवाई की है।
पुलिस के अनुसार पीडि़त रवि (परिवर्तित नाम) महाराष्ट्र का रहने वाला है। अगस्त से वह छात्रावास में रह रहा था। पीडि़त ने पांचों की पहचान राजस्थान के करण शर्मा, मध्यप्रदेश के गौतम, नई दिल्ली के राहुल झा, उत्तर प्रदेश के शुभम और उत्तराखंड के इंद्रजीत के रूप में की है। रवि के अनुसार पांचों छात्र व उनके अन्य तीन साथी उसे और नए छात्रों को लंबे समय से परेशान कर रहे थे। कभी उन्हें पानी, तो कभी शराब तो कभी सिगरेट आदि लाने पर मजबूर किया जाता था। यहां तक कि नए छात्रों को सर्दी में गरम पोशाक पहनने से भी रोका जाता था। पांचों छात्रों ने नए छात्रों के लिए उनके आगे झुकने का नियम बना रखा था। २४ दिसम्बर को रवि छात्रों के सामने नहीं झुका। विरोध भी किया। बदले की भावना से पांचों छात्र रात करीब १० बजे रवि के कमरे में गए और उसके साथ मारपीट की। आरोप है कि उसे और उसके परिवार को जाति ***** गालियां दीं। बाद में रवि को छत पर ले जाकर उसके कपड़े उतार दिए गए और उसके बाल भी काटे गए। जिसके बाद रवि ने पुलिस से पांचों के खिलाफ शिकायत की। कर्नाटक शिक्षा अधिनियम, एससी/एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम व आपीसी की धारा ३४१, ५०६ और ५०४ के तहत पुलिस ने मामला दर्ज कर पांचों की गिरफ्तारी की।
राजीव गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेस के कुलपति डॉ. एस.सचिदानंद ने आंतरिक जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस से पूरी रिपोर्ट मिलने के बाद इसे एंटी रैगिंग सेल, दिल्ली को भेजेंगे।

Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned