मेट्रो में आम आदमी की तरह राहुल ने किया सफर

मेट्रो में आम आदमी की तरह राहुल ने किया सफर

Sanjay Kumar Kareer | Publish: Apr, 09 2018 01:32:24 AM (IST) Bangalore, Karnataka, India

सेल्फी ली, मजाकिया अंदाज में लोगों से मिले, सफाई कर्मियोंं की समस्याएं सुनीं तो उद्योगपतियों से भी की चर्चा

बेंगलूरु. आगामी विधानसभा चुनावों को देखते हुए आक्रामक चुनावी अभियान में जुटे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी रविवार का पूरा दिन बेंगलूरु में बिताए। उनके दिन भर के कार्यक्रमों को इस तरह से रखा गया कि शहर में उनकी प्रभावी उपस्थिति महसूस की गई। उन्होंने नम्मा मेट्रो में सफर किया और यात्रियों के साथ मजाक करते नजर आए। कई लोगों ने उनके साथ सेल्फी ली और राहुल खुलकर लोगों से घुले-मिले।


दिन की शुरुआत उन्होंने पत्रकारों के साथ अनौपचारिक बैठक के साथ की। इस दौरान उन्होंने राज्य में चुनाव को विचारधारा की लड़ाई बताया और खुलकर नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर हमले किए। पांच सितारा होटल से निकलकर कांग्रेस अध्यक्ष निम्न आय वर्ग वाले इलाके जक्करायनकेरे स्थित तालाब के पास सफाई कर्मचारियों से मिले। राहुल गांधी एक सधे हुए राजनीतिज्ञ की तरह मंच से कुर्सी उठाकर लाए और उनके बीच ही बैठ गए। उनका यह व्यवहार कामगारों को खूब भाया और राहुल ने जोरदार तालियां बटोरी। सफाई कर्मियों ने कांग्रेस को समर्थन देने की बात कही और कइयों ने राहुल से हिंदी में भी बात की।


जयम्मा नामक एक अनुबंधित सफाई कर्मी ने कहा कि वह पिछले 25 साल से अनुंबध के आधार पर काम कर रही है और वह चाहती है कि उसे स्थायी कर्मचारी बनाया जाए। एक कांग्रेस नेता ने जयम्मा की बात का समर्थन भी किया और कहा कि जब तक नियमित वेतन नहीं मिलेगा बच्चों को पालना मुश्किल होगा। इसके बाद वे ज्ञान ज्योति प्रेक्षागृह पहुंचे जहां कारोबारी समुदाय से भेंट की। इस दौरान एक सत्र बेंगलूरु की महिलाओं के साथ चर्चा के लिए रखा गया। इस सत्र से मीडिया को दूर रखा गया।


इसी बीच कुछ समय निकालकर वे वरिष्ठ कांग्रेस नेता मारग्रेट अल्वा के घर गए, जहां अल्वा के पति निरंजन थॉमस अल्वा का निधन हो गया था। अल्वा से भेंट कर राहुल ने अपनी संवेदनाएं प्रकट की। राहुल एक किताब की दुकान पर भी रुके और कुछ किताबें खरीदीं। उन्होंने करेन आर्मस्ट्रांग की 'ए हिस्ट्री ऑफ गॉडÓ, द आर्ट ऑफ लिविंग और पेरुमल मुरुगन की 'द गोट थीफÓ खरीदी। बेंगलूरु में विधानसभा की 28 सीटें हैं और उन्होंने लोगों से जुडऩे को कोई मौका नहीं गंवाया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned