बारिश के साथ आई आंधी से जनजीवन अस्त-व्यस्त

रायलसीमा और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में ट्रफ ऑफ लो प्रेशर का क्षेत्र बना हुआ है

By: Ram Naresh Gautam

Published: 25 Apr 2018, 05:56 PM IST

बेंगलूरु. रायलसीमा और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक क्षेत्र में बने ट्रफ ऑफ लो प्रेशर के कारण मंगलवार को बेंगलूरु सहित प्रदेश के अन्य हिस्सों में भारी बारिश हुई और आने वाले दिनों में और अधिक बारिश होने की सम्भावना है। बेंगलूरु मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार आंध्र प्रदेश व तमिलनाडु के दक्षिणी क्षेत्र, कर्नाटक के पश्चिमी और तेलंगाना के उत्तरी क्षेत्र से लगे हिस्से (रायलसीमा) और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में ट्रफ ऑफ लो प्रेशर का क्षेत्र बना हुआ है।

बेंगलूरु के राजराजेश्वरी नगर, राजाजीनगर, विद्यारण्यपुरा, यशवंतपुर, मत्तिकेरी, पीनिया, मल्लेश्वरम, मैजेस्टिक, एमजी रोड, केंगेरी, शिवाजी नगर, एचएएल, इलेक्ट्रॉनिक सिटी, बन्नेरघट्टा आदि में 50 मिमी तक बारिश हुई।

चिक्कमगलूर, चिक्कबल्लापुर, चित्रदुर्गा, दक्षिण कन्नड़, हासन, हावेरी, कोडगू, कोलार, मण्ड्या, मैसूरु, रामनगर, शिवमोग्गा, तुमकुरु और विजयनगर जिलों के विभिन्न क्षेत्रों में 20 से 40 मिमी तक बारिश दर्ज की गई। अगले 3 दिनों तक बारिश की सम्भावना है। दोपहर बाद 3 बजे से बारिश 1 घंटे तक जारी रही, जिससे मैजेस्टिक, मल्लेश्वरम, यशवंतपुर, शिवाजी नगर और अन्य क्षेत्रों में आवागमन बाधित रहा।

कहीं टूटे, कहीं गिरे पेड़, यातायात बाधित
तेज आंधी के साथ आई भारी बारिश के चलते विभिन्न क्षेत्रों में 8 से अधिक पेड़ धराशायी हो गए। कई घंटों तक यातायात बाधित रहा। बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) के आपातकाल विभाग के अनुसार राजाजीनगर, बसवेश्वर नगर, मल्लेश्वरम, महालक्ष्मी ले-आउट, विजयनगर, महालक्ष्मीपुरम, संजय नगर क्षेत्र में मुख्यमार्ग के बीच में बड़े पेड़ गिरे। इसके अलावा यशवंतपुर और विद्यारण्यपुरा क्षेत्र में कई स्थानों पर पेड़ों की शाखाएं टूटीं, जिससे मार्ग अवरुद्ध रहे।

----------

मंड्या में भी बरसे बदरा
मंड्या. श्रीरंगपट्टणा तहसील सहित अन्य क्षेत्रों में मंगलवार शाम हुई बारिश ने गन्ना व चावल की सूखती फसल में जान लौटने पर किसानों के चेहरे पर खुशी लौटा दी।

-----------------

हमेशा शांत रखें मन को
बेंगलूरु. इंदिरा नगर नगर मेट्रो स्टेशन के पीछे परिमाला सभागणम में जारी प्रहलाद चरित्र कथा के छठे दिन कथावाचक श्रवणानंद सरस्वती ने कहा कि मनुष्य का चित्त हमेशा शांत रहना चाहिए। भगवान प्रहलाद की तरह कर्मठ भक्ति करनी चाहिए। माता-पिता बच्चों को अच्छे संस्कार दें। माता-पिता ही सबसे बड़े गुरु हंै।

Show More
Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned