राजस्थानी महिलाओं ने की परिवार में सुख-समृद्धि की कामना

दस दिवसीय व्रत-अनुष्ठान का समापन

By: Ram Naresh Gautam

Published: 13 Mar 2018, 05:23 PM IST

बेंगलूरु. प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में प्रवासी राजस्थानी महिलाओं ने दस दिवसीय व्रत अनुष्ठान के 10वें दिन सोमवार को रीति-रिवाज के साथ व्रत रखा। दशामाता की पूजा कर परिवार के लिए सुख शांति एवं समृद्धि की कामना की। शहर में मैसूरु रोड स्थित बैटरायनपुर के एक मंदिर में प्रवासी राजस्थानी महिलाओं ने सुबह दशामाता, शीतला माता, सूर्य देव, और गणेश भगवान की कथा सुनीं। पूजन के बाद पीपल के चारों और कच्चे धागे के साथ परिक्रमा ली। पीपल की छाल तोड़कर घर लाईं। पूजा के अंतिम दिन पिस्ता कुमावत, कैलाश कंवर राजपुरोहित, सुप्रिया राजपुरोहित, गीता कुमावत, संतोष राजपुरोहित, ओम कंवर राजपुरोहित, इंदिरा कुमावत, प्रेमा कुमावत, जमनी देवी सिरवी, पप्पू देवी माली, गणकी कुमावत सहित कई महिलाओं ने पूजा-अर्चना कर व्रत तोड़ा। दशा माता के मंगल गीत गाए। मंजूनाथ नगर राजाजीनगर में नर्बदादेवी प्रजापत, जयश्री मेहता, रानी मेहता, मंजू मेहता व अन्य महिलाओं ने पीपल की पूजा कर दशामाता की कथा सुनी और दूध-दही, मिठई का भोग लगाया। धागे से पीपल के चारों ओर परिक्रमा की। मेदे से माता के गहने बनाकर माता को अर्पित किए।


मैसूरु और मंड्या में भी हुआ आयोजन
मैसूरु. शहर में कामटगैरी के केटी स्ट्रीट मार्ग स्थित चौडेश्वरी माता मंदिर में सोमवार को प्रवासी राजस्थानी महिलाओं ने दशामाता की पूजा-अर्चना कर समूह में कथा श्रवण किया। महिलाओं ने पीपल की परिक्रमा लगा पूजा अर्चना की। अलसुबह ही महिलाएं सजधज कर पूजा थाल लेकर समूह में मंदिर पहुंचीं। दशामाता को प्रसाद का भोग लगा पूजा की। महिलाओं ने मंगल गीत गाए। महिलाओं ने अपने घरों में भी दशामाता की पूजा की।
सिद्धार्थनगर शिव मंदिर में मेवाड़ समाज की महिलाओं ने चैत्र मास की दशमी को दशामाता की पूजा-अर्चना की। कथा सुनने के बाद परिवार में सुख समृद्धि की कामना की। इंदु सुालेचा, इंदु श्रीमाल, वनीता श्रीमाल, पूजा श्रीमाल, लादीबाई मारू, रीना देसरला व अन्य महिलाओं ने पीपल पूजा कर समूह में कथा सुनीं और सुनाई। दशामाता के आखिरी दिन महिलाओं ने उपवास रखा। श्रीरंगपट्टणा में प्रमुख माता मंदिर मे सोमवार को राजस्थानी महिलाओं ने दशामाता पूजन कर परिवार की सुख समृद्धि की कामना की। इस वर्ष बढ़ती तिथि की वजह से 11 दिनों तक मनाए गए इस त्यौहार में मैसूरु एवं श्रीरंगपट्टनम की महिलाओं ने अंतिम दिन व्रत रखकर माता मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना की। शांता नंदावत, चंदा दक, संगीता, अनिता, कांता, अरुणा, कविता, प्रियंका दक, मंजू गन्ना, मनीषा पोरवाल समेत कई महिलाओं ने कथा श्रवण किया।


मण्ड्या. शहर के वीवी रोड, संजय सर्कल, 100 फीट रोड सहित आसपास क्षेत्र की महिलाओं ने सोमवार को गांधी भवन के सामने दशामाता व पीपल की पूजा की। गीत गाते हुए मंंदिर पहुंचीं महिलाओं ने माता की पूजा कर कथा श्रवण किया। दशामाता के गले में धागा पहनाया। होलूलु सर्कल, मुख्य बाजार की महिलाओं ने लक्ष्मी जनार्दन मंदिर में पीपल पूजा कर दशामाता के गीत के साथ कथा सुनी और उपवास खोला। अरकेरे गांव में अलसुबह महिलाएं सजधज कर समूह में गीत गाती हुई पुलिस स्टेशन के पास सुब्रमण्यम स्वामी मंदिर पहुंचीं, जहां पीपल पूजा कर दशा माता की कथा सुनी। महिलाओं ने दशामाता के धागे को गांठ लगाकर गले में पहना व पुराने धागे को जल में विसर्जित कर उपवास खोला।

Show More
Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned