17 बस्तियों के दो हजार परिवारों को राशन किट दिए

सेव द चिल्ड्रन संस्था कर रही समाज सेवा

By: Yogesh Sharma

Published: 11 Sep 2021, 08:20 PM IST

बेंगलूरु. सेव द चिल्ड्रन व मार्स रिग्ले फाउंडेशन के तत्वावधान में शहर की १७ कच्ची बस्तियों के २०00 परिवारों को राशन किट किट वितरित किए। यह अभियान लगातार सात दिन तक चला। सुरक्षा प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए घर-घर जाकर राशन सामग्री के किट दिए गए। इस कार्य में पुलिस विभाग, सामुदायिक स्वयंसेवक, युवा चेंजमेकर्स सहित स्थानीय राजनेताओं ने भी भाग लिया।
सेव द चिल्ड्रन की ओर से दिए गए राशन सामग्री किट के बारे में लाभार्थी लक्ष्मी ने कहा,"हम महामारी की स्थिति के कारण कठिनाई के दौरा से गुजर रहे हैं। ऐसे समय में संस्था द्वारा की गई सेवा से हम अभिभूत हैं।
वहीं बानो ने कहा, "महामारी की स्थिति के कारण, हम वित्तीय संकट सु गुजर रहे हैं। ऐसे समय में बच्चों को शिक्षा दिलाना मुमकिन नहीं था। सेव द चिल्ड्रन संस्था ने बच्चों की सुध ली है।
वहीं मुथुलक्ष्मी ने कहा, "मैं एक कचरा बीनने वाली हूं। सेव द चिल्ड्रन बच्चों को विभिन्न कौशलों का प्रशिक्षण दे रहा है, शिक्षा और बच्चों को विभिन्न प्रकार की सहायता प्रदान कर रहा है।
सेव द चिल्ड्रन, कर्नाटक और तमिलनाडु के वरिष्ठ प्रबंधक, एनएम चंद्रा ने कहा, "हम सभी ऐसी अभूतपूर्व चुनौतियों से गुजर रहे हैं और बच्चे सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। अधिकांश परिवार दैनिक मजदूरी की कमाई पर निर्भर हैं। प्रभावित परिवारों को खाद्य सुरक्षा मिलेगी, जो मुझे बहुत राहत की बात लगती है। यह कार्य डोनर मार्स रिग्ले फाउंडेशन के निरंतर समर्थन के कारण संभव हुआ है।
सेेव द चिल्ड्रन संस्था भारत के 12 राज्यों और 120 देशों में बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा और मानवीय/डीआरआर जरूरतों से संबंधित मुद्दों पर काम करती है। खासकर उन लोगों के लिए जो सबसे अधिक वंचित और हाशिए पर हैं। भारत के साथ सेव द चिल्ड्रन का जुड़ाव 80 साल से अधिक पुराना है।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned