रेड्डी बंधुओं ने पांच साल बाद फिर की मजबूत वापसी

रेड्डी बंधुओं में सबसे छोटे भाई भाई सोमशेखर रेड्डी ने इस बार बल्लारी शहर से चुनाव लड़ा

By: Ram Naresh Gautam

Published: 16 May 2018, 05:49 PM IST

पूर्व मंत्री जनार्दन के दो भाई- करुणाकर व सोमशेखर रेड्डी जीते
7 करीबियों को मिले थे टिकट, तीन ही जीते

बेंगलूरु. विधानसभा चुनाव में बल्लारी के दागी रेड्डी बंधुओं के समूह को टिकट देने के भाजपा को मिश्रित परिणाम मिले हैं। पार्टी ने उन्हें 7 टिकट दिए, जिनमें से तीन ही जीतने में कामयाब हो सके जबकि अन्य चार को हार का मुंह देखना पड़ा। रेड्डी बंधुओं में सबसे छोटे भाई भाई सोमशेखर रेड्डी ने इस बार बल्लारी शहर से चुनाव लड़ा। व्यवसायी से नेता बने और जमानत पर रिहा सोमशेखर रेड्डी ने कांग्रेस के अनिल लाड को कड़े मुकाबले में 16 हजार से अधिक मतों से हराया। तीन भाइयों में सबसे बड़े करुणाकर रेड्डी ने हरपनहल्ली में कांग्रेस के एम.पी. रवीन्द्र को 10 हजार से अधिक मतों से हराया। रेड्डी बंधुओं के परम मित्र व बल्लारी सांसद बी. श्रीरामुलु को बादामी व मोलकालमुरु से टिकट मिला। बादामी में वे सिद्धरामय्या के हाथों 1500 वोटों से हारे लेकिन मोलकालमूर में उन्होंने कांग्रेस के डी. योगेश बाबू को 43,045 मतों से हराया।

भाजपा ने कंपली से दो बार विधायक रहे श्रीरामुलु के भांजे टी.एच. सुरेश बाबू को टिकट दिया लेकिन वे कांग्रेस के जे.एन. गणेश से 5 हजार से अधिक मतों से हार गए। सुरेश बाबू पर जनार्दन रेड्डी को जमानत पर छुड़ाने के लिए सीबीआई के न्यायाधीश को रिश्वत देने के आरोप हैं। श्रीरामुलु के चाचा व सोमशेखर रेड्डी के करीबी सण्ण फकीरप्पा बल्लारी ग्रामीण से लड़े लेकिन कांग्रेस के बी. नागेन्द्र ने उन्हें 3000 से अधिक मतों से हरा दिया।
जनार्दन रेड्डी के करीबी सिने स्टार साई कुमार को बागेपल्ली से टिकट मिला था लेकिन वे कांग्रेस के एस.एन. सुब्बारेड्डी के हाथों बुरी तरह हार गए और महज 4140 वोट हासिल करके चौथेे स्थान पर रहे। जनार्दन रेड्डी के रिश्तेदार व रीयल एस्टेट व्यवसायी लल्लेश रेड्डी बी.टी.एम. ले- आउट से उतरे लेकिन गृहमंत्री रामलिंगा रेड्डी ने उन्हें 20,478 मतों से पटकनी दे दी।

BJP
Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned