बारिश से हुए नुकसान की सप्ताह में दें रिपोर्ट

राज्य सरकार के औद्योगिक विकास आयुक्त तथा धारवाड़ जिला प्रभारी सचिव दर्पण जैन ने कहा है कि मौजूदा वर्ष की मानसून बारिश शुरू हो गई है, जिसके चलते जिले के निचले इलाकों में बारिश से होने वाली समस्याओं के निपटने के लिए की गई पूर्व तैयारियों की रिपोर्ट एक सप्ताह में देनी चाहिए।

By: शंकर शर्मा

Published: 07 Jun 2018, 10:17 PM IST

धारवाड़. राज्य सरकार के औद्योगिक विकास आयुक्त तथा धारवाड़ जिला प्रभारी सचिव दर्पण जैन ने कहा है कि मौजूदा वर्ष की मानसून बारिश शुरू हो गई है, जिसके चलते जिले के निचले इलाकों में बारिश से होने वाली समस्याओं के निपटने के लिए की गई पूर्व तैयारियों की रिपोर्ट एक सप्ताह में देनी चाहिए।


जैन ने जिले के सभी तहसीलदार, तालुक पंचायत कार्यकारी अधिकारी, लघु सिंचाई, लोक निर्माण, राष्ट्रीय राजमार्ग, जिला पंचायत इंजीनियरिंग विभाग, हेस्काम, महा नगर निगम, स्थानीय निकायों के अधिकारियों को संयुक्त रूप से क्षेत्र की समीक्षा कर एक सप्ताह के भीतर रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए।


जैन, धारवाड़ में जिलाधिकारी कार्यालय सभा भवन में बारिश से क्षतिग्रस्त हुए इलाके, की गई कार्रवाई, कृषि गतिविधियों तथा प्राकृतिक आपदा पूर्व कार्रवाई से संबंधित आयोजित अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता कर बोल रहे थे।


उन्होंने कहा कि जिले के नवलगुंद तालुक में बेण्णेहल्ला तथा तुप्परीहल्ला नालों से होने वाली बाढ के हालातों से बचने के लिए ठोस कदम उठाने चाहिए। पिछले वर्षों में हुई घटनाओं के आधार पर आवश्यक कार्रवाई करनी चाहिए। निचले क्षेत्रों में स्थित जलमग्न होने वाले कुंदगोल तथा नवलगुंद तालुक के गांवों का संपर्क नहीं कटे इस दिशा में पूर्व तैयारी करनी चाहिए।


...मोटर बोट चालकों की सूची तैयार करें
दर्पण जैन ने कहा कि मोटर बोट, चालक तथा माहिर तैराकों की सूची तैयार रखनी चाहिए। खस्ताहाल तथा टूटे तालाबों की रिपोर्ट तैयार कर तुरंत उनकी मरम्मत करनी चाहिए। तालाबों में ऊफान आने के पश्चात गांव में पानी नहीं घुस पाए इस दिशा में वैज्ञानिक मार्ग तलाशना चाहिए। हाल में मंटूरु गांव में हुई घटना पुन: नहीं दोहरानी चाहिए। कुंदगोल समेत विविध टाउन में स्थित लघु तालाबों की मेंड निर्माण तथा झाडियां उगाने का कार्य तुरन्त करना चाहिए।


...नालियों की सफाई करें
जैन ने कहा कि पानी के सुचारू रूप से बहाव के लिए नालियों की सफाई करनी चाहिए। खतरे की कगार पर स्थित पेड, विद्युत खंभों को ठीक करना चाहिए। हुब्बल्ली-धारवाड़ महा नगर निगम क्षेत्र में विविध दल गठित कर समीक्षा एवं राहत कार्य आरम्भ करनी चाहिए। दमकल विभाग तथा आपात सेवाएं सतर्क रहना चाहिए। बीआरटीएस कार्यों से कुछ निजी भवनों में बारिश का पानी घुसने की शिकायतें मिल रही हैं। इन समस्याओं का प्रथम प्राथमिकता के आधार पर समाधान करना चाहिए।


...पुराने भवनों को हटाएं
दर्पण जैन ने कहा कि जर्जर तथा जो रहने योग्य नहीं हैं उन मकानों तथा भवनों की सूची तैयार कर उन्हें हटा देना चाहिए। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से 108 एम्बुलेंस वाहन, जीवरक्षक औषधी, जल शुध्दीकरण के लिए हालोजिन गोलियां, चिकित्सक एवं कर्मचारियों को तैयार रहना चाहिए। लोगों का संकट के मौके पर आवेश में आकर बर्ताव करने की सम्भावनाएं होती हैं।
अधिकारियों को संयम से उनकी समस्याओं का समाधान करना चाहिए। आकाशीय बिजली गिरने से मरने वालों के परिजनों को तथा घर गंवा चुके लोगों को मुआवजा वितरण में विलम्ब नहीं होना चाहिए। किसानों को बुवाई के समय पर्याप्त मात्रा में बीज, रसायनिक खाद आदि उपलब्ध करना चाहिए।


...जिले में हो रही अच्छी बारिश
जिलाधिकारी एस.बी. बोम्मनहल्ली ने कहा कि जिले में अच्छी बारिश हो रही है। जिले के 13 बारिश मापन केन्द्रों में भी अच्छी बारिश दर्ज की गर्ई है। बुवाई कार्य शुरू हो गया है जो 6 प्रतिशत पूर्ण हुआ है।


जून के अंत तक अधिकतर बुवाई कार्य पूर्ण होने की उम्मीद है। इससे पहले वर्ष 2001 तथा 2009 में प्राकृतिक आपदा की घटनाएं जिले में हुए थीं। इसके चलते पूर्व सतर्कता के तौर पर हालात का सामना करने की तैयारियां आवश्यक हैं। अधिकारियों को पूर्व अनुमति के बिना केन्द्र स्थान नहीं छोडना चाहिए तथा अवकाश पर नहीं जाना चाहिए।


जिला पंचायत की मुख्य कार्यकारी अधिकारी स्नेहल रायमाने, हुब्बल्ली-धारवाड़ महा नगर निगम आयुक्त इब्राहिम मैगूर, बीआरटीएस प्रबंध निदेशक एम.जी. हिरेमठ, अपर जिलाधिकारी रमेश कळसद, सह कृषि निदेशक टी.एस. रुद्रेशप्पा, जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अधिकारी डॉ. आर.एम. दोड्डमनी, उप विभागीय अधिकारी पी. जयमाधव समेत जिले के वरिष्ठ अधिकारी बैठक में मौजूद थे।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned